जम्मू-कश्मीर में रियासी जिले के कटरा के काकरायाल गांव में गुरुवार को आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ में सभी तीन पाकिस्तानी आतंकवादियों के मारे जाने के साथ आठ घंटे से अधिक समय से चल रहा अभियान समाप्त हो गया। इस दौरान एक पुलिस उपाधीक्षक और केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के पांच जवानों समेत 12 सुरक्षाकर्मी घायल हो गए।

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि सभी तीन पाकिस्तानी आतंकवादी मारे गये। उन्होंने बताया कि बुधवार को रियासी जिले में जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर काकरायाल-झज्जर कोटली के समीप एक ट्रक में छिपे आतंकवादी सुरक्षा बलों की एक पार्टी पर हमला कर भाग निकले थे और उनकी तलाश में सुरक्षा बलों ने पूरे इलाके की घेराबंदी कर ली थी। ये आतंकवादी ईश्वर दास नामक व्यक्ति के घर में घुस गए थे।

J&K पंचायत चुनावों पर ‘असमंजस’ पैदा कर रही केंद्र और राज्य सरकार : कांग्रेस

सुरक्षा बलों ने आसपास की घेराबंदी कर ली थी और इसी दौरान घर के भीतर छिपे आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी शुरू कर दी। सुरक्षा बलों ने भी इसका करारा जवाब दिया। इस दौरान सभी तीन पाकिस्तानी आतंकवादी मारे गए और राज्य पुलिस के एक उपाधीक्षक समेत 12 सुरक्षाकर्मी घायल हो गए।

उन्होंने बताया कि यह मुठभेड़ श्री माता वैष्णो देवी मंदिर के निकट काकरायाल गांव के समीप हुई। अभियान समाप्त हो गया है लेकिन घेराबंदी और तलाश अभियान जारी है। मारे गये सभी आतंकवादी जैश ए मोहम्मद से ताल्लुक रखते थे।

प्रवक्ता ने बताया कि घायलों में राज्य पुलिस के नगरोटा पुलिस उपाधीक्षक अशोक शर्मा, सार्जेंट मोहम्मद इकबाल, कांस्टेबल भानु प्रताप सिंह, सीआरपीएफ के हर्षपाल सिंह 6 बटालियन, पंचम सिंह 6 बटालियन, अभय सिंह 187 बटालियन, मनोज कुमार एसी 187 बटालियन और जाकिर हुसैन 6 बटालियन शामिल हैं।

सभी घायलों को नारायण अस्पताल में भर्ती कराया गया है और उनकी हालत स्थिर है। इस बीच मुठभेड़ को देखते हुए उधमपुर जिला प्रशासन ने क्षेत्र के सभी स्कूलों को बंद करने के निर्देश दिए थे तथा जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर यातायात स्थगित कर दिया गया।

इससे पहले एकीकृत कमान बल के मेजर जनरल अरविंद भाटिया ने बताया था कि सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में दो पाकिस्तानी आतंकवादी मारे गए हैं और तीसरे के पैर में गोली लगी है। वह वहां से भाग निकला है। उन्होंने बताया कि इस तरह की खुफिया जानकारी मिली थी कि वे अंतरराष्ट्रीय सीमा पर सांबा और बोबिया क्षेत्र में घुसे थे और उनका मकसद कश्मीर जाना था। ट्रक चालक और दूसरे सह चालक ने इस काम के लिए उनसे 30 हजार रुपये की मांग की थी और उन्हें ट्रक में छिपाकर ले जा रहे थे।

उन्होंने बताया कि बड़गाम का रहने वाला ट्रक चालक रयाज अहमद और सह चालक निवासी चरारे शरीफ बुधवार सुबह एक ढाबे पर रूके और पांच लोगों के नाश्ते की मांग की। शक होने पर वहां मौजूद सुरक्षा कर्मियों ने ट्रक की तलाशी ली तो भीतर छिपे आतंकवादियों ने गोलीबारी कर दी और इसके बाद वहां से भाग निकले।

उन्होंने बताया कि दोनों पाकिस्तानी आतंकवादियों को मार दिया गया है और तीसरे की तलाश में सीआरपीएफ और पैरा कमांडों आस पास के क्षेत्र की तलाशी में लगे हैं।