ठुआ : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस और नेशनल कान्फ्रेंस एवं पीडीपी सहित क्षेत्रीय दलों पर रविवार को निशाना साधते हुए कहा कि जम्मू कश्मीर को भारत से अलग करने की उनकी मांग का उसी तरह से पर्दाफाश हो गया है जैसे पाकिस्तान की परमाणु धमकी की ‘‘हवा’’ निकल गई है।

मोदी प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएममो) में राज्य मंत्री जितेन्द्र सिंह के पक्ष में यहां एक चुनावी रैली को संबोधित कर रहे थे। मोदी ने कहा कि भाजपा पार्टी विचारक श्यामा प्रसाद मुखर्जी के प्रति ‘‘कर्तव्यबाध्य’’ है जिन्होंने यहां तिरंगा लहराया था और यह कहते हुए अपना जीवन न्यौछावर कर दिया था कि ‘‘एक देश में दो विधान, दो प्रधान और दो निशान नहीं चलेगा।’’

उन्होंने कहा, ‘‘हाल के दिनों में आपने देखा होगा कि कांग्रेस, नेशनल कान्फ्रेंस और पीडीपी की ‘महामिलावट’ बेनकाब हुई। जो दशकों से उनके दिल में था और जिसके लिए वे गुप्त रूप से काम कर रहे थे वह सामने आ गया।’’

कुमारस्वामी ने प्रधानमंत्री पर किया पलटवार, मोदी को ‘परसेंटेज बैकग्राउंड’ वाला PM बताया

उन्होंने कहा, ‘‘वे प्रतिदिन जम्मू कश्मीर को भारत से अलग करने की धमकी दे रहे हैं, रक्तपात और अलग प्रधानमंत्री की बात कर रहे हैं। पहले पाकिस्तान भी हमें अपने परमाणु हथियारों की धमकी देता था लेकिन उसकी हवा निकल गई।’’

प्रधानमंत्री ने सर्जिकल स्ट्राइक और हवाई हमले का मुद्दे का उल्लेख करते हुए कांग्रेस पर भारतीय सेना की क्षमता पर संदेह करने के लिए सवाल उठाया। उन्होंने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि वह अफ्सपा को खत्म करने और सुरक्षा बलों को राज्य से हटाने की बात करके उन्हें हतोत्साहित कर रही है।

मोदी ने नेशनल कान्फ्रेंस और पीडीपी नेतृत्व पर जम्मू कश्मीर में बर्बादी करने का आरोप लगाया और कहा कि राज्य के बेहतर भविष्य के लिए उन्हें सत्ता से बाहर किए जाने की जरूरत है।

उन्होंने कहा, ‘‘मैं उन सभी से कहना चाहता हूं जो पिछली तीन पीढ़ियों से सत्ता में हैं जिनमें अब्दुल्ला और मुफ्ती परिवार शामिल हैं कि यह मोदी है जो ना बिकता है, ना डरता है और ना झुकता है।’’

मोदी ने कहा, ‘‘अपने परिवार के सभी सदस्यों को मैदान में लायें और मोदी को जितना बुरा भला कह सकते हैं कहें लेकिन आप देश को बांट नहीं पाएंगे। श्यामा प्रसाद की विचारधारा हमारे लिए ‘वचनपत्र’ है और यह पत्थर पर उकेरा हुआ है जिसे कोई भी हटा नहीं सकता।’’

उन्होंने कहा कि यह भाजपा की प्रतिबद्धता है और देश का चौकीदार भी इस विचारधारा से जुड़ा हुआ है। उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस और उसके सहयोगी दल पूरा प्रयास कर सकते हैं लेकिन वे मोदी को अपने सामने दीवार की तरह खड़ा पाएंगे।’’

नेशनल कान्फ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने मोदी पर निशाना साधा और पीडीपी संस्थापक मुफ्ती मोहम्मद सईद तथा मोदी द्वारा 2015 में गठबंधन करने के बाद एक-दूसरे को गले लगाने की तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट पर साझा की।

उन्होंने तस्वीर साझा करते हुए लिखा, ‘‘मोदी जो कहते हैं उसमें इतना विश्वास करते हैं। देखिये वह उस परिवार के साथ गठबंधन करके कितने खुश हैं जिससे वह जम्मू कश्मीर की राजनीति को मुक्त देखना चाहते हैं।’’

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया,‘‘मोदी जी ने 2014 में कहा था कि हमें जम्मू कश्मीर को इन दो राजनीतिक परिवारों से मुक्त कराना होगा और उसके तुरंत बाद गए और मुफ्ती परिवार के एक नहीं बल्कि दो सदस्यों को जम्मू कश्मीर का मुख्यमंत्री बनाया। 2019 में मोदी जी ने कहा कि ‘हमें जम्मू कश्मीर को इन दो राजनीतिक परिवारों से मुक्त कराना होगा। एक और जुमला मोदीजी?’’

‘मोदी..मोदी’ की नारों के बीच प्रधानमंत्री ने करीब 38 मिनट के अपने भाषण में कांग्रेस, नेशनल कान्फ्रेंस और पीडीपी पर निशाना साधते हुए कहा कि परिवार का शासन करने वाले दलों को जम्मू कश्मीर विरासत में नहीं मिला है।

मोदी ने कहा, ‘‘हमारे संविधान निर्माता (बी आर आंबेडकर) ने काफी पहले पंजाब में अपने भाषण में स्पष्ट कर दिया था कि वंशवादी शासन देश का सबसे बड़ा शत्रु है। आज उनकी जयंती है और उन्हें सबसे बड़ी श्रद्धांजलि वंशवादी राजनीति करने वाली पार्टियों के खिलाफ वोट करना होगा।

उन्होंने कहा कि मुखर्जी ने स्थानीय नेता प्रेम नाथ डोगरा के समर्थन से राष्ट्र विरोधी शक्तियों को चुनौती दी और इस पर जोर दिया कि एक देश में दो संविधान, दो प्रधानमंत्री और दो राष्ट्रीय चिह्न नहीं हो सकते।

उन्होंने अपने भाषण की शुरूआत डोगरी में करते हुए कहा कि जम्मू और बारामूला निर्वाचन क्षेत्रों में 11 अप्रैल को हुए पहले चरण के मतदान में मतदाताओं द्वारा भारी मतदान आतंकवादियों, उनके आकाओं और उनकी हिमायती पार्टियों को करारा झटका है।

उन्होंने कहा, ‘‘मैंने पिछले महीने रैलियां शुरू करने के बाद पूरे देश का दौरा किया और भाजपा के पक्ष में तीव्र लहर देखी। विभिन्न एजेंसियों द्वारा सर्वेक्षण से भी यह स्पष्ट होता है कि भाजपा को इस चुनाव में कांग्रेस की तुलना में तीन गुना अधिक सीटें मिलेंगी और कांग्रेस के लिए खुद को बचाना संभव नहीं है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस ने सशस्त्र बलों को आतंकवादियों के खिलाफ कड़े कदम उठाने से रोक दिया। वे आशंकित थे कि अगर वे आगे बढ़ने की हरी झंडी देते हैं और 1962 जैसी स्थिति उभरती है, तो कांग्रेस की नाव डूब जाएगी।’’

उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस ने कभी भी सेना की ताकत और क्षमता को नहीं समझा। उन्होंने कहा, ‘‘हमने राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए बल का इस्तेमाल किया लेकिन कांग्रेस के लिए, सेना सिर्फ पैसे का इंतजाम करने के लिए एक साधन है।’’

उन्होंने आरोप लगाया कि पार्टी को रक्षा सौदों के लिए ‘‘मलाई’’ (रिश्वत) मिली और उसे बलों की सबसे कम चिंता थी।

मोदी ने दावा किया कि आज भी कांग्रेस सर्जिकल स्ट्राइक और हवाई हमले पर सवाल उठा रही है ताकि वह अपनी विफलता को ढक सके और अपने वोट बैंक को बचा सके।

मोदी ने कहा, ‘‘भारत कभी भी वैश्विक स्तर पर एक मजबूत देश के रूप में नहीं उभरा था, लेकिन स्थिति बदल गई है। वे दिन लद गए जब भारत सरकार धमकियों से भयभीत हो जाती थी। यह नया भारत है और हम आतंकवादियों को (उनके सुरक्षित पनाहगाह में) मारेंगे और (उनका समर्थन करने वाले) लोगों को बेनकाब करेंगे।’’