केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने आज कहा कि उसने पिछले साल यूएई में गिरफ्तार और वहां प्रत्यर्पण कार्यवाही का सामना कर रहे विवादित अगस्तावेस्टलैंड हेलीकाप्टर सौदे के कथित बिचौलिये क्रिस्चियन मिशेल से पूछताछ नहीं की।

मिशेल के वकील ने दावा किया है कि भारत और यूएई के अधिकारी उन पर अपराध कबूल करने और अपने बयान में कांग्रेसी नेता सोनिया गांधी का नाम लेने का दबाव बना रहे हैं।

इस दावे के बारे में पूछे जाने पर सीबीआई ने आरोपों से इंकार किया और कहा कि उनकी टीम ने मिशेल से यूएई में पूछताछ नहीं की। मिशेल को पिछले साल हिरासत में लिया गया था।

सीबीआई प्रवक्ता अभिषेक दयाल ने इन आरोपों पर कहा , ‘‘ क्रिस्चियन मिशेल को यूएई के अधिकारियों ने फरवरी 2017 में गिरफ्तार किया था। उन्हें इस साल गिरफ्तार नहीं किया गया जैसा कि उनके वकील दावा कर रहे हैं।

सीबीआई की टीम ने भगोड़े से न तो यूएई में पूछताछ की और ना ही कबूलनामे के लिये उन्हें प्रभावित किया। भगोड़े के खिलाफ प्रत्यर्पण कार्यवाही यूएई में चल रही है और प्रत्यर्पण का आग्रह किया जा रहा है। ’’

सीबीआई ने पिछले साल सितंबर में इस मामले में आरोपपत्र दायर किया था जिसमें पूर्व वायुसेना प्रमुख एस पी त्यागी को आरोपी बनाया गया था।