बीते बुधवार को विस्तारा और एयर इंडिया की फ्लाइट एक बड़ी दुर्घटना होने से बाल-बाल बच गयी। मुंबई के आसमान के ऊपर उड़ रहे विस्‍तारा एयरलाइंस और एयर इंडिया का विमान एक दूसरे के बिल्‍कुल सामने आ गया। दोनों के बीच महज 100 फीट का फासला था और 261 जिंदगियों पर खतरे का बादल मंडराने लगा। लेकिन विमान के चालकों ने बहुत कुशलता से स्थिति संभाली और सभी यात्रियों को सुरक्षित बचा लिया। दिलचस्प बात यह है कि दोनों ही फ्लाइट की कमान उस वक्त दो महिला पायलट के हाथ में थी।

जांच के दौरान यह बात सामने आई है कि एयर ट्रैफिक कंट्रोलर्स (एटीसी) की तरफ से कोऑर्डिनेशन में कुछ दिक्कत हुई। कुछ सेकेंड के इस बेहद तनावपूर्ण माहौल को विमान की चालकों ने कुशलता से संभाल लिया। एयर इंडिया की विमान संख्या A-319 मुंबई से भोपाल के और विस्तारा की विमान संख्या A-320 दिल्ली से पुणे के लिए उड़ान भर रही थी। चंद सेकेंड के लिए दोनों विमान एक-दूसरे के काफी निकट आ गए थे, लेकिन कोई हादसा नहीं हुआ। दोनों विमानों की कमान महिला पायलटों के हाथ में थी, जिनकी सूझबूझ और कुशलता की तारीफ हो रही है।

खास तौर से एयर इंडिया की पायलट अनुपमा कोहली की, जिनके पास विमान उड़ाने का 20 साल से अधिक का अनुभव है और इस बड़े हादसे को टालने में उनका यह अनुभव काम आया। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, विस्तारा के विमान को एयर इंडिया के विमान की तरफ बढ़ता देख रेड अलार्म बज गया और यहीं अनुपमा का अनुभव काम आया। उन्‍होंने तुरंत दाहिनी तरफ मुड़कर विस्‍तारा के विमान के लिए रास्‍ता बना दिया और एयर इंडिया के विमान को थोड़ा नीचे कर दिया। इस तरह सैकड़ों जिंदगियां बच गईं।

पायलट कोहली के त्वरित निर्णय लेने की क्षमता और कुशलता से स्थिति संभालने के लिए एयर इंडिया ने काफी तारीफ की। विस्तारा एयरलाइंस की तरफ से इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है। एयरलाइंस का कहना है कि पायलट का टॉइलट ब्रेक नियमानुसार ही था और हमारा विमान निर्देश के अनुसार ही उड़ान भर रहा था। अब अनुपमा के सूझबूझ की हर कोई तारीफ कर रहा है।

अधिक जानकारियों के लिए यहाँ क्लिक करें।