भारती एयरटेल कंपनी सोमवार को बड़े विवाद में फंस गई। मोबाइल सर्विस प्रोवाइडर एयरटेल पर धर्म को लेकर भेदभाव करने का आरोप लगा है। आपको बता दे कि लखनऊ में एक लड़की के ट्वीट से हिंदू-मुस्लिम के मुद्दे पर जबरदस्त बहस छिड़ गई, बात यहां तक पहुंची कि एयरटेल को इस मुद्दे पर अपनी सफाई पेश करनी पड़ी।

दरअसल , लखनऊ की एक मैनेजमेंट प्रोफेशनल ने सोमवार को एक मुस्लिम एयरटेल टेक्नीकल रिप्रजेंटेटिव की सेवाएं लेने से सिर्फ इसलिए इंकार कर दिया, क्योंकि वह एक मुस्लिम था।

वही , देखते ही देखते यह मुद्दा सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। खबरों के अनुसार लखनऊ की पूजा सिंह के घर एयरटेल डिजिटल टीवी का कनेक्शन है। कनेक्शन में कुछ दिक्कत होने पर उसने कंपनी के कस्टमर केयर सर्विस में शिकायत की। इस पर पूजा के घर जाने के लिए कंपनी ने शोएब नामक सर्विस इंजीनियर का चयन किया। इसकी जानकारी होते ही पूजा ने विवादित ट्वीट कर दिया। उसने कहा कि चूंकि शोएब मुस्लिम हैं और मुझे मुस्लिमों के कामकाज की नैतिकता पर भरोसा नहीं हैं क्योंकि कुरान में कस्टमर सर्विस के अलग मायने हो सकते हैं। इसलिए मेरे घर हिंदू प्रतिनिधि ही भेजें।

पूजा का इतना लिखना था कि सोशल मीडिया पर घमासान मच गया। लोग ट्वीट कर उन्हें आड़े हाथों लेने लगे। कोई उन्हें कट्टरपंथी कहने लगा तो कोई मनोचिकित्सक के पास जाने की सलाह देने लगा। यही नहीं, कई ने पूजा को अपशब्द भी लिखे।

हालांकि, एयरटेल ने इसके जवाब में लिखा कि हम अपने कस्टमर्स और कर्मचारियों के साथ जाति-धर्म के नाम पर किसी भी तरह का भेदभाव नहीं करते। कॉल के समय जो भी प्रतिनिधि उपलब्ध होता है, उसे ही तत्काल मौके पर भेजा जाता है।

वही ,जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्लाह ने टेलीकाम कंपनी को आड़े हाथों लेते हुए ट्विट किया, ” डियर एयरटेल, इस जवाब और इस कट्टरता को बढ़ावा देने के लिए मैं एयरटेल को एक भी पैसे नहीं दूंगा, मैं अपना नंबर पोर्ट करवा रहा हूं इसके अलावा मैं एयरटेल की DTH और ब्रॉडबैंड सर्विस भी कैंसिल कर रहा हूं।

बॉलीवुड अदाकारा गौहर खान ने भी इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि बेहद शर्मनाक! खुदा का शुक्र है कि एयरटेल की कोई सर्विस मेरी जिंदगी का हिस्सा नहीं है और ना आगे कभी होगी। एयरटेल मेरे खूबसूरत देश की जो बुनियादी मूल उसका हिस्सा नहीं हो सकता।

जानी-मानी पत्रकार बरखा दत्त ने @pooja303singh यूजर के लिए लिखा कि पूजा आपकी डीपी में जो तिरंगा नजर आ रहा है आपने उसे झुका दिया है। अगर कभी भी एंटी-नेशनल शब्द का इस्तेमाल किसी के लिए किया जाएगा जो आप उनमें सबसे पहले होंगी क्योंकि आपने एक किताब का तिस्कार किया है जो हमारे लिए सबसे ऊपर है और वो है हमारा संविधान।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।