उत्तर प्रदेश के नोएडा में पार्क में नमाज अदा करने से रोक लगाने का फैसला चर्चा का विषय बन चुका है। नोएडा पुलिस द्वारा मंगलवार को सेक्टर 58 के पार्क में नमाज पढ़ने से मना किया गया, जिसके बाद अब इस पर राजनीतिक बयानबाजी तेज हो गई है।

ऐसे में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने उत्तर प्रदेश पुलिस के फैसले पर पलटवार किया है। ओवैसी का कहना है कि कांवड़ियों के लिए फूल बरसाने वाली पुलिस को हफ्ते में एक बार पढ़ी जाने वाली नमाज से दिक्कत हो रही है।

namaz

ओवैसी ने ट्वीट कर लिखा, ”उत्तर प्रदेश की पुलिस ने कांवड़ियों के लिए फूल बरसाए थे, लेकिन हफ्ते में एक बार पढ़ी जाने वाली नमाज़ का मतलब शांति और सद्भाव बिगड़ सकता है। ये बिल्कुल वैसा हुआ कि आप मुसलमानों से कह रहे हो कि आप कुछ भी कर लो, लेकिन गलती तो आपकी ही होगी।”

इसके अलावा AIMIM प्रमुख ने लिखा कि कानून के मुताबिक ये भी कहां तक जायज है कि कोई कंपनी ये तय करे कि एक कर्मचारी अपनी पर्सनल जिंदगी में क्या करता है।

बता दें कि एक शिकायत पर कार्रवाई करते हुए उत्तर प्रदेश की नोएडा पुलिस ने कल नोटिस जारी कर सेक्टर 58 में पार्क में नमाज पढ़ने पर रोक लगा दी थी। जिसपर बवाल हो गया है।

नोएडा पुलिस का पार्क में नमाज पर नोटिस, कर्मचारियों ने पढ़ी तो कंपनी होगी जिम्मेदार