तेल की कीमतों और रुपये के लगातार ‌गिरते स्तर पर मोदी सरकार से समूचा विपक्ष तो नाराज है ही इस  बीच बाबा रामदेव ने भी सरकार की अलोचना करते हुए चुटकी ली है। एक कार्यक्रम के दौरान बाबा रामदेव ने कहा कि रुपये की हालत ऐसी हो गई है कि शर्म को भी शर्म आ जाए…साथ ही बाबा रामदेव ने ये भी कहा कि देश की अर्थव्यवस्था मजबूत होगी तो रुपया भी मजबूत होगा। उन्होंने विजय माल्या के सवाल पर जवाब दिया और कहा कि सरकारों ने देश में एक राक्षस को पैदा किया, जो बाद में देश छोड़कर भाग गया।

रामदेव ने कहा कि भारत विश्व का सबसे बड़ा दूध उत्पादक देश है, इसके बावजूद यहां किसानों की हालत में सुधार नहीं हुआ। पहले गाय पालने वाले लोगों को दूध और घी का कम मूल्य मिलता था। गाय के दूध से बनने वाले उत्पादों को गौरव दिलाना, उससे किसानों के जीवन में समृद्धि लाना और किसानों को सही मूल्य दिलाना हमारा लक्ष्य है। पतंजलि के दूध के बाजार में आने का बाद किसानों और गाय पालकों ने दूसरी कंपनियों को कीमत बढ़ाकर दूध देना शुरू कर दिया है।

उन्होंने कहा कि मैं तीन चीजों के लिए इस क्षेत्र में आया। किसानों का फायदा हो, दूध उत्पादों को इस्तेमाल में लेने वाले लोगों को फायदा हो और देश को फायदा हो। देश को शुद्ध चीजें मिलें. इससे जो भी फायदा होगा वो भी देश के लिए ही होगा। मैं उपकार के लिए काम कर रहा हूं। मदर डेयरी और अमूल वाले मेरे उत्पादों के बाजार में आने से डरे हैं और उन्होंने धमकाना भी शुरू कर दिया है। भारत का बाजार दुनिया का सबसे बड़ा बाजार है। मैं चाहता हूं कि भारत का पैसा भारत में ही रहे और जो भी पैसा आए उससे देश के गरीब लोगों की सेवा हो सके।

रामदेव बोले, ‘राजनीतिक दल कहते हैं कि देश को आगे बढ़ाना है लेकिन देश आगे बढ़ेगा कैसे जबतक देश के जीडीपी में वृद्धि नहीं हो। उन्होंने कहा कि रुपये की बहुत बेइज्जती हो रखी है। बेइज्जती भी ऐसी कि शर्म को भी शर्म आ जाए।’

रामदेव ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था मजबूत होनी चाहिए. रुपये को मजबूत करने के लिए हमें कुछ साधन अपनाने पड़ेंगे और देश की अर्थव्यवस्था मजबूत होगी तो रुपया भी मजबूत होगा। चीन का दुनिया के 70 से 80 फीसदी मार्केट पर कब्जा है। एक समय था कि भारत का दुनिया के 25 फीसदी बाजार पर कब्जा था, आज 1.5 में हम हैं। क्या आप पर बैंक लोन है इसके जवाब में रामदेव ने कहा कि मैंने बैंक लोन लिया था जिसे चुका दिया है।

‘कम्युनिस्टों ने धनवान होने को हेय दृष्टि से देखा’

रामदेव ने कहा, ‘उद्योगपति शब्द को खराब क्यों कहा जाने लगा है, इसके जवाब में रामदेव ने कहा कि कम्युनिस्टों ने भारत में धनवान होने को हेय दृष्टि से देखा और उन्हें लोगों को अमीरों के खिलाफ भड़काया। माना कि कुछ अमीर भ्रष्ट हैं तो क्या कम्युनिस्टों में भ्रष्ट लोग नहीं हैं। हर क्षेत्र में गलत लोग हैं, लेकिन आप कुछ की वजह से पूरी जमात को चोर लूटेरे कहने लग जाएं, ये अफसोसजनक है। यह सिर्फ भारत में ही है. बाकि दुनिया में ऐसा नहीं है।’

रामदेव ने कहा कि भारत में पहले तो कम्युनिस्टों ने बेड़ा गड़क किया, फिर जो भी राजनीतिक दल आता है वो कहता है कि भारत में अमीर बहुत कम हैं, जो गरीब हैं उनका वोट लो और अमीरों को गाली दो. सरकार टैक्स उन्हीं से लेती है, पार्टियां चंदा भी उन्हीं से लेती हैं, देश की सड़कें, एयरपोर्ट, सेना के हथियार तक उन्हीं से खरीदे जाते हैं. पूरा देश उन्हीं से चलता है लेकिन पैसे को और पैसेवालों को गाली दी जाती है.

उन्होंने कहा, ‘देश के बाबाओं ने धन और लक्ष्मी को जमकर गाली दी है और बड़ा अपराध किया है. इन्होंने कहा कि पैसा तो हाथ का मैल है. लेफ्ट और राइट के लोगों ने मिलकर कहा कि देश में सिर्फ गरीब होने चाहिए। अमीरों को गाली दो और ठोको. इन लोगों ने धनवान होने को गाली मान ली है।’

‘सरकार ने माल्या जैसे राक्षस को पैदा किया, फिर वो देश छोड़कर भाग गया’

विजय माल्या के सवाल पर रामदेव ने कहा कि माल्या के मामले में कई लोग कटघरे में आएंगे। जब माल्या राज्यसभा के सांसद बने तो किन लोगों ने सपोर्ट किया, जब घाटा हो रहा था तो घाटे की पूर्ति नहीं हो सकेगी ये बात भी सामने थी फिर किन लोगों ने इनकी मदद की। उसके बाद जब ये पता लगा कि माल्या दिवालिया हो चुका है और उसके बावजूद भी मदद जारी रखी गई, उसके लिए कौन लोग जिम्मेदार हैं। फिर वो भागे कैसे? मुझे ऐसा लगता है कि एक राक्षस को पैदा किया गया और फिर वो राक्षस देश छोड़कर भाग गया। इस मामले में वर्तमान सरकार को थोड़ी और संजिदगी बरतनी चाहिए थी. कहीं न कहीं चूक हुई है।

नीरव मोदी और चोकसी के सवाल पर रामदेव ने कहा कि देश में आर्थिक अराजकता का माहौल है। थोड़े से बेइमानों की वजह से अच्छे लोगों को भी अपने व्यापार करने में मुश्किलें हो रही हैं। दो-चार करोड़ से लेकर 10-20 हजार करोड़ तक के व्यापारियों को इस आर्थिक अराजकता की वजह से समस्या है। उन्हें अब अपराधियों की तरह देखा जा रहा है।

देश के हालात ठीक नहीं- रामदेव

रामदेव ने कहा कि आर्थिक के साथ-साथ देश में राजनीतिक अराजकता का भी माहौल बना हुआ है। कौन आदमी किसके करीब है. किसी से भी मिलो तो ठप्पा लग जाता है। अब जिसकी भी सरकार होगी उसको तो नमस्कार करना पड़ेगा न। इन सबके बीच सामाजिक अराजकता और जातिगत उन्माद भी एक समस्या है। यह कुछ लोगों द्वारा किया जा रहा है। पिछले 1500 सालों में समाज के कमजोर तबकों पर जुल्म हुआ। लेकिन पुरखों के अपराध की सजा आज के लोगों को क्यों दिया जा रहा है। आज के माहौल के देखते हुए मैं कह सकता हूं कि देश के हालात ठीक नहीं है। इसलिए नफरत की फितरत को जितनी जल्दी खत्म कर पाएं अच्छा होगा।

‘राहुल अब राजनीति में मेहनत करने लगे हैं’

राहुल गांधी के कैलाश यात्रा पर रामदेव ने कहा कि राहुल गांधी आजकल व्यायायाम के अलावा राजनीतिक रूप से थोड़ी मेहनत भी कर रहे हैं। रामदेव ने कहा कि मैंने पहले भी कहा था कि ये देश किसी एक खानदान की जागीर नहीं है। लेकिन मैंने उस समय भी किसी एक व्यक्ति को टारगेट नहीं किया था। इसलिए हमें किसी के प्रति नीजी तौर पर द्वेष नहीं रखना चाहिए।