पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) की ओर से प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार शहबाज शरीफ ने कहा है कि सत्ता में आने पर अगर वह पाकिस्तान को चिर प्रतिद्वंद्वी भारत से आगे नहीं ले गये तो अवाम उनका नाम बदल दे। मीडिया में आई खबरों में आज यह जानकारी दी गई।

पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज (पीएमएल-एन) के अध्यक्ष शहबाज शरीफ ने पंजाब प्रांत के सरगोधा जिले में कल आयोजित एक चुनावी रैली में यह बयान दिया।

‘एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ की खबर के अनुसार शरीफ ने कहा कि सत्ता में आने के बाद अगर वह पाकिस्तान को भारत से आगे नहीं ले गए तो अवाम उनका नाम बदल सकती है।

अखबार के अनुसार 65 वर्षीय शरीफ ने कहा, ‘‘वे (भारतीय) वाघा सीमा पर आयेंगे और पाकिस्तानियों को अपना आका बतायेंगे।’’  पंजाब के मुख्यमंत्री रह चुके शहबाज ने दावा किया कि वह पाकिस्तान को मलेशिया और तुर्की के बराबर ले आएंगे। उन्होंने कहा कि वह मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद तथा तुर्की के राष्ट्रपति रेचप तायिप एर्दोआन से मिल कर ‘‘उनसे सीखेंगे और पाकिस्तान को फिर से एक महान देश बनायेंगे।’’

उन्होंने कहा कि देश के साथ के झूठा वादा करने वाले इमरान खान जैसे नेताओं के पक्ष में मतदान करने से पाकिस्तान महान देश नहीं बन सकता ।

शरीफ ने इमरान पर चुटकी लेते हुए कहा कि सड़कों से यू टर्न के संकेतक हटा कर वहां इमरान की तस्वीर चस्पा कर दी जानी चाहिए, क्योंकि पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के प्रमुख की राजनीति निराधार आरोपों और झूठे वादों पर आधारित है ।

पीएमएल-एन प्रमुख ने कहा, ‘‘खान ने पंजाब सरकार के खिलाफ भ्रष्टाचार का आरोप लगाया था लेकिन मेरे खिलाफ कुछ भी साबित नहीं हुआ ।’’

शरीफ जून 2013 से जून 2018 तक पंजाब प्रांत के मुख्यमंत्री रहे । उन्हें मार्च में पीएमएल-एन का अध्यक्ष चुना गया था। इससे पहले पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद उनके बड़े भाई नवाज शरीफ पार्टी अध्यक्ष पद के लिए अयोग्य करार दिये गए थे।

शरीफ ने कहा कि उनके बड़े भाई नवाज शरीफ लंदन में बीमार अपनी पत्नी को छोड़कर पाकिस्तान लौटे लेकिन पूर्व प्रधानमंत्री और उनकी बेटी मरियम नवाज को हवाई अड्डे पर ही गिरफ्तार कर लिया गया । शरीफ ने कहा, ‘‘नवाज शरीफ को उनकी मां से भी मिलने की अनुमति नहीं दी गयी ।’’

उल्लेखनीय है कि नवाज शरीफ और उनकी बेटी मरियम को भ्रष्टाचार के मामले में एक अदालत ने क्रमश: दस और सात साल की सजा सुनाई है ।