नई दिल्ली : संसद में ‌विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव पर बहस शुरू हो गई है। तेलुगुदेशम पार्टी और कांग्रेस द्वारा केंद्र सरकार के खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव पर बहस शुरू होने से पहले ही बीजू जनता दल ने सदन से वॉकआउट कर दिया। दरअसल बीजेडी ने ये पहले ही साफ कर दिया था कि वह इस मुद्दे पर न ही कांग्रेस के साथ है और न ही भाजपा के साथ। बीजेडी के अलावा तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के सांसद भी वोटिंग का बहिष्कार कर सकते हैं।

11 बजे जैसे ही सदन की कार्यवाही शुरू हुई बीजेडी के सांसदों ने सदन से वॉकआउट कर दिया। जाते जाते जैसे ही बीजेडी के सांसदों ने पीछे मुड़कर देखा, पीएम मोदी उन्हें देखकर मुस्करा उठे।

बीजेडी सदस्याें के वॉकआउट करने से अब संसद में बहुमत का आंकड़ा कम होकर 258 पर आ गया है। सदन में भाजपा के पास अकेले 273 सदस्य हैं। शिवसेना ने भी वोटिंग के बहिष्कार का फैसला किया है।

इस प्रस्ताव का विरोध करते हुए बीजेडी ने कहा, इस अविश्वास प्रस्ताव और इस पर होने वाली बहस से ओडिशा के लोगों का कुछ भी भला नहीं होने वाला है। सदन में बहस शुरू होने से पहले बीजेडी के सदन में नेता भातृहरि मेहताब ने कहा, पिछले 14 सालों में ओडिशा के साथ अन्याय हुआ है। चाहे 10 साल यूपीए सरकार के हों या फिर चार साल एनडीए सरकार के इस बहस का हमारे लिए कोई अर्थ नहीं है। इसके बाद बीजेडी सांसदों ने सदन से वॉकआउट कर दिया।