‘मुस्लिम पार्टी’ होने संबंधी अपने कथित बयान को लेकर खड़े हुए विवाद की पृष्ठभूमि में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि उनकी पार्टी शोषितों, दबे-कुचले लोगों और कतार में खड़े अंतिम व्यक्ति के साथ है और उसके लिए व्यक्ति का धर्म, जाति या आस्था मायने नहीं रखती। राहुल गांधी ने यह भी कहा कि कांग्रेस संपूर्ण मानवता से प्रेम करती करती है।

उन्होंने कांग्रेस का हवाला देते हुए ट्वीट कर कहा, “मैं कतार में खड़े आखिरी व्यक्ति के साथ हूं। शोषितों, हाशिये के लोगों और दबे-कुचले लोगों के साथ हूं। मेरे लिए उनका धर्म, जाति या आस्था मायने नहीं रखता। जो लोग तकलीफ में हैं, उनके साथ हूं और उनको अपनाती हूं। मैं घृणा और भय को खत्म करती हूं। मैं कांग्रेस हूं।”

गौरतलब है कि हाल ही में एक उर्दू दैनिक ने दावा किया था कि राहुल गांधी ने मुस्लिम समाज के बुद्धिजीवियों के साथ बैठक में कहा था कि ‘कांग्रेस मुसलमानों की पार्टी है।’ कांग्रेस ने इस खबर को ‘कोरी अफवाह’ करार दिया है और दावा किया है कि असल मुद्दों और ‘नरेंद्र मोदी सरकार की विफलताओं’ से ध्यान भटकाने के लिए अफवाहें फैलाई जा रही हैं।