BREAKING NEWS

6 जून से शुरू हो सकता है नयी लोकसभा का पहला सत्र◾लड़ाई कितनी भी लंबी हो, कभी पीछे नहीं हटूंगी : सोनिया गांधी◾BJP के पास अगले साल तक राज्यसभा में हो जाएगा बहुमत , जानिए ! Modi का ये फॉर्मूला ◾MP की घटना में शामिल लोग BJP और Modi के हैं मतदाता : ओवैसी◾ADR रिपोर्ट : नयी लोकसभा में 475 सांसद करोड़पति, ये सांसद है सबसे आमिर◾सीबीआई ने कोलकाता के पूर्व पुलिस प्रमुख पूछताछ के लिए तलब किया ◾दाभोलकर हत्याकांड में गिरफ्तार 2 लोगों को एक जून तक CBI हिरासत में भेजा गया ◾PM मोदी ने माँ हीराबेन से लिया आशीर्वाद◾जेटली का स्वास्थ्य बिगड़ने संबंधी खबरें झूठी, निराधार : सरकार ◾आतंकवादी भारत के खिलाफ कोई कदम नहीं उठाएं, इसलिए किया गया था बालाकोट हमला : जनरल रावत ◾अमेठी में सुरेन्द्र सिंह की हत्या पर स्मृति ईरानी बोली - दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलवायी जाएगी◾राफेल सौदे में FIR या CBI जांच का कोई सवाल ही नहीं है : केंद्र ◾नरेन्द्र मोदी 30 मई को लेंगे प्रधानमंत्री पद एवं गोपनीयता की शपथ ◾इमरान खान ने की प्रधानमंत्री मोदी से बात, मिलकर काम करने की इच्छा जताई ◾मोदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी : बाबा रामदेव◾TOP 20 News 26 MAY : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾अमेठी पहुंची स्मृति ईरानी, करीबी पूर्व ग्राम प्रधान सुरेंद्र सिंह की अर्थी को दिया कंधा◾राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ में पार्टी के सफाए से राहुल गांधी ज्यादा नाराज !◾अमेठी : सुरेंद्र सिंह के भाई ने बताया- राजनीतिक रंजिश में हुई हत्या◾शारदा घोटाला : सीबीआई ने जारी किया राजीव कुमार के खिलाफ लुकआउट नोटिस ◾

देश

चुनाव आयोग ने राजनीतिक दलों के लिये घोषणापत्र जारी करने की समयसीमा तय की

चुनाव आयोग ने राजनीतिक दलों के लिये चुनाव घोषणापत्र जारी करने की समयसीमा निर्धारित करते हुये स्पष्ट कर दिया है कि मतदान से 48 घंटे पूर्व प्रचार थमने के बाद चुनाव घोषणा पत्र जारी नहीं किये जा सकेंगे।

आयोग द्वारा शनिवार को चुनाव आचार संहिता के नियमों में घोषणापत्र से संबंधित प्रावधानों को जोड़ते हुये कहा गया है कि मतदान से दो दिन पहले तक ही राजनीतिक दल अपने घोषणापत्र जारी कर सकेंगे। प्रचार अभियान थमने के बाद मतदान से 48 घंटे पहले की अवधि में घोषणा पत्र जारी नहीं किया जा सकेगा।

आयोग के प्रमुख सचिव नरेन्द्र एन बुतोलिया द्वारा सभी राजनीतिक दलों और राज्यों के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों को जारी दिशानिर्देश में निर्धारित की गयी यह समयसीमा एक या एक से अधिक चरण वाले चुनाव में समान रूप से लागू होगी।

जेटली ने कांग्रेस पर बोला हमला, कहा – राहुल का प्रचार अभियान फर्जी मुद्दों पर आधारित

इसमें चुनाव आचार संहिता के खंड आठ में घोषणापत्र जारी करने की प्रतिबंधित समयसीमा के प्रावधान शामिल करते हुये स्पष्ट किया गया है कि एक चरण वाले चुनाव में मतदान से पूर्व प्रचार थमने के बाद की अवधि में कोई घोषणापत्र जारी नहीं होगा।

वहीं एक से अधिक चरण वाले चुनाव में भी प्रत्येक चरण के मतदान से पहले 48 घंटे की अवधि में घोषणापत्र जारी नहीं किये जा सकेंगे। आयोग के एक अधिकारी ने आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर स्पष्ट किया कि यह प्रावधान क्षेत्रीय दलों पर भी समान रूप से लागू होगा।

अधिकारी ने बताया कि क्षेत्रीय राजनीतिक दल संबद्ध क्षेत्र के मतदान से पहले 48 घंटे की अवधि में (प्रचार बंद होने के दौरान) घोषणापत्र जारी नहीं कर सकेंगे। यह व्यवस्था भविष्य में सभी चुनावों के दौरान लागू होगी।

उल्लेखनीय है कि प्रचार अभियान थमने के बाद 48 घंटे की ‘प्रचार प्रतिबंधित अवधि’ में घोषणापत्र को भी मतदाताओं को लुभाने के लिये किये जाने वाले प्रचार का ही एक स्वरूप मानते हुये आयोग ने यह व्यवस्था की है।