नई दिल्ली : केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने आज राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की श्रीनगर में हत्या की निंदा की और इसे ‘‘ कायराना कृत्य ’’ करार दिया। वरिष्ठ पत्रकार एवं उनके पीएसओ की आज अज्ञात बंदूकधारियों ने श्रीनगर के लालचौक में प्रेस इन्क्लेव स्थित उनके समाचारपत्र कार्यालय के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी। गृहमंत्री सिंह ने पत्रकार की हत्या पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए ट्वीट किया , ‘‘ राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की हत्या एक कायराना कृत्य है। यह कश्मीर में विचारशील आवाजों को दबाने का एक प्रयास है। वह एक साहसी और निर्भीक पत्रकार थे। ’’ उन्होंने ट्विटर पर लिखा , ‘‘ उनकी मृत्यु पर बहुत स्तब्ध और दुखी हूं। मेरी संवेदनाएं उनके शोक संतप्त परिवार के साथ हैं। ’’ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी कश्मीर में वरिष्ठ पत्रकार शुजात बुखारी की हत्या पर दुख प्रकट किया और कहा कि बुखारी एक साहसी पत्रकार थे जो जम्मू कश्मीर में शांति के लिए निर्भीक होकर लड़ रहे थे।

गांधी ने ट्वीट किया, ‘‘राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की हत्या की खबर सुनकर दुखी हूं। वह बहादुर इंसान थे जो जम्मू-कश्मीर में न्याय और शांति के लिए निर्भीक होकर लड़े। मेरी संवेदना उनके परिवार के प्रति हैं। बुखारी की कमी महसूस होगी।’’ भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने भी वरिष्ठ पत्रकार की हत्या को आतंकवादियों का एक कायराना कृत्य करार दिया। उन्होंने ट्वीट किया , ‘‘ राइजिंग कश्मीर के एडिटर इन चीफ की श्रीनगर में हत्या की खबर सुनकर स्तब्ध हूं। आतंकवादियों का यह कृत्य निंदनीय और कायराना है। ’’ राज्यसभा में विपक्ष के नेता एवं जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद ने कहा , ‘‘ उन्होंने (बुखारी) 2014 की बाढ़ के दौरान काफी अच्छा कार्य किया। वह एक अच्छे व्यक्ति थे। उनकी मृत्यु से हमने एक अच्छा पत्रकार और समाजसेवक खो दिया है।
जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा , ‘‘ इतना स्तब्ध हूं कि शब्दों में बयां नहीं कर सकता।

शुजात को जन्नत मिले और उनके प्रियजनों को इस मुश्किल घड़ी में ताकत मिले। ’’ अब्दुल्ला ने बुखारी के साथ ट्विटर पर हुए संवाद की एक स्क्रीनशाट भी पोस्ट की। केंद्रीय विधि मंत्री रविशंकर प्रसाद ने ट्वीट किया , ‘‘ राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की नृशंस हत्या की सूचना पर दुखी हूं। ऐसी विचारशील आवाजों को दबाने का आतंकवादियों का ऐसा प्रयास कभी सफल नहीं होगा। ’’ केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने बुखारी की हत्या को प्रेस की स्वतंत्रता पर एक हमला बताया उन्होंने कहा , ‘‘ शुजात बुखारी की हत्या प्रेस की स्वतंत्रता पर एक नृशंस हमला है।

आतंकवादियों का एक कायराना एवं निंदनीय कृत्य। हमारी निर्भीक मीडिया हमारे लोकतंत्र की महान ताकतों में से एक है और हम मीडिया कर्मियों को एक सुरक्षित एवं अनुकूल कामकाजी माहौल मुहैया कराने के लिए प्रतिबद्ध हैं। ’’ द एडिटर्स गिल्ड आफ इंडिया ने ट्वीट किया , ‘‘ एडिटर्स गिल्ड आफ इंडिया राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की हत्या की स्पष्ट रूप से निंदा करता है। यह प्रेस की स्वतंत्रता और लोकतांत्रिक आवाजों पर एक गंभीर हमला है। हम जल्द ही एक अधिक विस्तृत बयान जारी करेंगे। ’’ कश्मीर एडिटर्स गिल्ड ने भी बुखारी की हत्या की निंदा की और इसे कायराना कृत्य करार दिया ।

24X7 नई खबरों से अवगत रहने के लिए क्लिक करे।