GST एक देश एक TAX लागु हुआ


17 अप्रत्यक्ष करों से आजादी देने वाला गुड्स एंड सर्विसेस टैक्स यानी जीएसटी आज भारत सरकार लॉन्च कर चुकी है | इस लॉन्च के लिए संसद भवन के सेंट्रल हॉल में विशेष आयोजन किया गया था| राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और पीएम मोदी ने ठीक रात के 12 बजे एक बटन दबाकर  जीएसटी को लांच किया | इस ऐतिहासिक मोके पर उप राष्ट्रीपति हामिद अंसारी , वित्त मंत्री अरुण जेटली , पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा ,लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन समेत सभी सांसद संसद मे मौजूद रहे |

                                                                                              Source

GST के शुभारम्भ पर राष्ट्रपति ने कहा कि जीएसटी एक ऐतिहासिक कदम है और ये एक संतोष की बात है | प्रणब मुखर्जी बोले कि मैं गुजरात, बिहार, महाराष्ट्र और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्रियों से मिला और जीएसटी पर चर्चा की और जीएसटी मामले पर जटिल मामलों को सुलझाने की कोशिश की |उन्होंने कहा कि सभी ने सकारात्मक रवैया अपनाय| मुझे इस बात का विश्वास था कि जीएसटी को लागू कर दिया जाएगा और मेरा विश्वास सही निकला |उन्होंने कहा कि देश में अब स्पर्धा जारी होगी |

                                                                                         Source

पीएम ने कहा कि GST के रुप में हम एक नए भारत की शुरुआत कर रहे हैं, इसके लिए सेंट्रल हॉल से अच्छी जगह कोई नहीं है| मोदी बोले कि गीता में भी 18 अध्याय थे, और जीएसटी काउंसिल की भी 18 बैठके हुईं|पीएम ने कहा कि अब पूरे देश में एक ही टैक्स लगेगा, लगभग 500 टैक्स खत्म हो रहे हैं| अब से पहले दिल्ली में कुछ और दाम रहता था, तो नोएडा में कुछ और पर अब ऐसा नहीं होगा | 26 नवंबर 1949 देश ने संविधान को स्वीकार किया| यह वही जगह है| और आज जीएसटी के रूप से बढ़कर कोई और स्थान नहीं हो सकता, इस काम के लिए. संविधान का मंथन 2 साल 11 महीने 17 दिन चला था| हिंदुस्तान के कोने कोने से विद्वान उस बहस में हिस्सा लेते थे| वाद-विवाद होते थे, राजी नाराजी होती थी| पीएम मोदी ने कहा कि जीएसटी लागू होने से ईमानदार लोगों को कोई नुकसान नहीं होगा, उन्होंने कहा कि GST से कालाधन, भ्रष्टाचार खत्म होगा| ये व्यवस्था देश के गरीबों के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद होगी |

                                                                                           Source

अरुण जेटली बोले कि संसद ने सभी सुझावों को सर्वसम्मति से पास किया, जीएसटी काउंसिल ने 18 बार बैठक की थी. जिसमें हर निर्णय सर्वसम्मति से हुआ है, कभी भी वोट डलवाने की जरुरत नहीं पड़ी| अभी तक 24 निर्णय हुए हैं, 1211 सामानों पर टैक्स तय हुआ है| हमारा लक्ष्य था कि आम आदमी पर ज्यादा बोझ ना पड़े और राज्य-केंद्र सरकार के राजस्व पर भी कोई प्रभाव ना पड़े| उन्होंने कहा कि आज के समय में 17 टैक्स और 23 सेस को समाप्त कर अब सिर्फ एक टैक्स जीएसटी लागू कर दिया गया है|अब सिर्फ एक ही रिटर्न दायर करना होगा| इस निर्णय को लागू करने में सभी का योगदान है, मैं सभी का धन्यवाद करता हूं| जीएसटी लागू होने से महंगाई कम होगी, टैक्स का झंझट कम होगा|