पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम ने रविवार को कहा कि आगामी विधानसभा चुनावों को ध्यान में रखकर जन-सामान्य के उपयोग की 100 वस्तुओं पर जीएसटी की दरों में कटौती की गई है।

चिदंबरम ने ट्वीट के जरिए कहा, ‘जब चुनाव करीब आए, सरकार ने दरों में कटौती की। मेरा मानना है कि यह विभिन्न राज्यों में जल्दी-जल्दी चुनाव कराने के पक्ष में एक अच्छी दलील हो सकती है।’

फैसले को ‘देर से आने वाली अक्लमंदी’ बताते हुए उन्होंने सवाल किया कि यह फैसला पहले क्यों नहीं लिया गया।

चिदंबरम ने पूछा, ‘जीएसटी परिषद ने 100 मदों पर दरों में कटौती की। तीन महीने में रिटर्न दाखिल करने को मंजूरी दी। देर से आई अक्लमंदी। सरकार ने जुलाई 2017 में हमारी सलाह क्यों नहीं मानी?’ मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मिजोरम में इस साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं।

वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) परिषद ने शनिवार को रेफ्रिजरेटर, वाशिंग मशीन और छोटे टेलीविजन समेत कई मदों पर जीएसटी की दर 28 फीसदी से घटाकर 18 फीसदी कर दी। परिषद ने सैनिटरी पैड को कर के दायरे से बाहर कर दिया।

कांग्रेस नेता चिदंबरम ने मौजूदा जीएसटी व्यवस्था को ‘बगैर-सुधार’ वाली और ‘त्रुटिपूर्ण’ बताते हुए तीन दर वाली व्यवस्था को तत्काल लागू करने की वकालत की।

उन्होंने कहा, ‘जीएसटी कानून में अनेक अन्य खामियां हैं। मुझे संदेह है कि सरकार के पास इन खामियों को दूर की इच्छाशक्ति या कौशल है।’