1993 मुंबई बम धमाकों में शामिल रहे आतंकी अहमद लंबू को गुजरात एटीएस ने गिरफ्तार कर लिया है। गुजरात एटीएस ने अहमद लंबू को वलसाड से गिरफ्तार किया। जानकारी के मुताबिक, सीबीआई ने अहमद लंबू को पकड़ने के लिए लुक आउट नोटिस जारी कर रखा था और इंटरपोल को भी सूचित कर रखा था। साथ ही लंबू के बारे में जानकारी देने वाले के लिए पांच लाख रुपये का इनाम भी रखा गया था। गुजरात एटीएस ने गुरुवार की रात एक विशेष अभियान के तहत की गई छापेमारी के दौरान लंबू को गिरफ्तार किया।

माना जाता है कि अहमद 1993 बम धमाकों के आरोपी दाऊद इब्राहिम का बेहद करीबी है। इस मामले में इससे पहले एक और आरोपी फारूक टकला भी गिरफ्तार हो चुका है। खबरों की मानें तो कुछ दिनों पहले से ही गुजरात एटीएस अहमद की तलाश में थे। इसके लिए वलसाड वापी के बीच समुंदर में सर्च ऑपरेशन भी चलाया जा रहा था।

वही, सीबीआई का मानना है कि फारूक ही वो शख्स है, जिसने मुंबई में बम धमाकों का पूरा प्लान बनाया था। फारुक की योजना के मुताबिक ही मुंबई जैसे शहर में एक साथ 12 जगहों पर धमाके किए गए थे। 1993 में बम धमाकों के बाद जब फारूक भारत से दुबई भाग गया, तो भारत सरकार ने इंटरपोल से मदद मांगी थी।

बता दें कि अहमद पर 24 साल पहले 12 मार्च 1993 में मुंबई धमाकों की साजिश रचने और हथियार सप्‍लाई करने का आरोप है। 12 मार्च को मुंबई 12 सिलसिलेवार धमाकों से दहल उठी थी। इसी के साथ धमाकों के बाद अहमद लंबू को भगाने में डोसा ने उसकी मदद की थी। जिसके बाद से ही अहमद लंबू की खोज की जा रही थी।

अधिक जानकारियों के लिए यहां क्लिक करें।