पंचकूला सीबीआई कोर्ट ने डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम  और तीन अन्य को 16 वर्ष पुराने सिरसा के पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड मामले दोषी करार दिया गया। इस मामले में सजा का ऐलान 17 जनवरी को किया जाएगा। जज जगदीप सिंह ने करीब तीन बजे अपना फैसला सुनाया। राम रहीम को विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट में पेश किया गया है।

सुनवाई के दौरान मीडिया को कोर्ट से बाहर रखा गया। विशेष कोर्ट ने राम रहीम के अलावा इस मामले में तीन अन्य आरोपियों को मुजरिम माना। पंचकूला में सीबीआई स्पेशल कोर्ट की सुरक्षा व्यवस्था के बारे में जानकारी देते हुए डीसीपी कमलदीप गोयल ने कहा, ‘भारी संख्या में पुलिसबल को तैनात कर दिया गया है।

कोर्ट परिसर में 500 की संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात कर दिया गया है। यहां बैरिकेडिंग भी कर दी गई है।’ गुरमीत राम रहीम अभी साध्‍वी दुष्‍कर्म मामले में रोहतक की सुना‍रिया जेल में 20 साल  कैद की सजा काट रहा है। गुरमीत राम रहीम के साथ कृष्ण लाल, कुलदीप और निर्मल सिंह को दोषी करार दिया गया है।

ram rahim

मामले की सुनवाई से पहले हरियाणा में, विशेषकर पंचकूला, सिरसा और रोहतक जिलों में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गए हैं। यहां कानून व्यवस्था से जुड़ी किसी भी स्थिति से निपटने के लिये राज्य सशस्त्र पुलिस की कई कंपनियों, दंगा विरोधी पुलिस और कमांडो बल को तैनात किया जा रहा है।  हरियाणा के अतिरिक्त पुलिस महानिरीक्षक (कानून-व्यवस्था) मोहम्मद अकील ने कहा, ‘हरियाणा में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है।’