हिमाचल प्रदेश के नए मुख्यमंत्री के नाम पर आज मुहर लग सकती है। शिमला में बीजेपी की कोर कमेटी की बैठक शुरू हो गई है। बैठक के बाहर जयराम ठाकुर के समर्थक नारेबाजी कर रहे हैं। वहीं धूमल के भी समर्थक जुटे हुए हैं। पर्यवेक्षक बनाई गईं रक्षामंत्री निर्मला सीतारमन और नरेंद्र तोमर यहां सभी विधायकों से बात कर रहे हैं। बीजेपी के सीएम पद की रेस में जयराम ठाकुर का नाम सबसे उपर है। वही जेपी नड्डा और प्रेम कुमार धूमल, दोनों रेस से बाहर हैं।

हिमाचल के सीएम का नया चेहरा विधायकों में से ही होगा। गुरुवार को हिमाचल पार्टी प्रभारी मंगल पांडे बीजेपी विधायक दल के साथ शिमला में बैठक करेंगे। उधर पार्टी पर्यवेक्षक निर्मला सीतारमण और केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के भी शिमला पहुंचने की संभावना है, लेकिन शिमला पार्टी कार्यालय को फिलहाल उनके आने की कोई सूचना नहीं मिली है।

वहीं धूमल के सीएम बनने में कई रोड़े हैं। उनके लिए सबसे बड़ी चुनौती नड्डा खेमे से है, इसके अलावा शांता कैंप के विरोध का भी सामना करना पड़ रहा है। प्रदेश अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती सहित उनके कई करीबियों की हार से उनका दावा कमजोर हो रहा है। विरोधी खेमा लगातार इसी तर्क को आधार बना रहा है। बावजूद इसके धूमल के समर्थक विधायक विरेंद्र कंवर उनके लिए सीट खाली करने को तैयार हैं।

सुखराम ठाकुर, विनोद कुमार और हंसराज सहित एक दर्जन विधायक उनके पक्ष में बताए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री पद के लिए तैयार पैनल के हिसाब से विधायकों में एक राय बनाने का जिम्मा मंगल पांडेय को सौंपा गया है। पांडेय की शाह से मुलाकात हुई है। पांडेय को केंद्रीय नेतृत्व ने नड्डा और धूमल कैंप के बीच सामंजस्य बैठाकर विधायक दल की बैठक करवाने का जिम्मा सौंपा है।

धूमल के घर पहुंचे जयराम सीएम की दौड़ में आगे माने जा रहे मंडी जिला के सिराज हलके से विधायक जयराम ठाकुर समीरपुर में धूमल के घर पहुंचे। जहा जयराम के साथ नवनिर्वाचित विधायक सुरेंद्र शौरी और गोविंद ठाकुर भी साथ थे। शाम करीब सात बजे पहुंचे और जयराम व ठाकुर समीरपुर की बंद कमरे में आधा घंटा चर्चा हुई।

धूमल की हार के बाद बीजेपी विधायक दल से जयराम सीएम पद की दौड़ में सबसे आगे बताए जा रहे हैं। हालांकि, धूमल कैंप के विधायक भी उनकी ताजपोशी के लिए जोर लगा रहे हैं। ऐसे में हुई मुलाकात के कई मतलब निकाले जा रहे हैं। जयराम ठाकुर भले ही इसे शिष्टाचार वाली मुलाकात बता रहे हों मगर सूत्रों की मानें तो वह दिल्ली से संकेत मिलने के बाद ही समीरपुर पहुंचे थे। उधर, बीजेपी केंद्रीय नेतृत्व बुधवार को दिल्ली में सीएम के नाम पर चर्चा करता रहा।

राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह दिन भर कई नेताओं से बैठक करते रहे। प्रदेश प्रभारी मंगल पांडेय और दोनों पर्यवेक्षकों रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और नरेंद्र तोमर के साथ भी शाह ने बैठक की। चुनाव में हार के बावजूद कई विधायक धूमल को सीएम बनाने के पक्ष में आ गए हैं। वही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साफ किया है कि चाहे गुजरात हो या हिमाचल प्रदेश, मुख्यमंत्री की कमान एक युवा के हाथों में होगी। यानी साफ है कि भाजपा आलाकमान एक युवा चेहरे को मुख्यमंत्री का पद सौंपना चाहता है।

हमारी मुख्य खबरों के लिए यहां क्लिक करे।