भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों ने कहा कि मुख्य सचिव के साथ कथित हाथापाई के बाद शुरू हुए गतिरोध को समाप्त करने के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ सचिवालय में बैठक के लिए उन्हें औपचारिक निमंत्रण का इंतजार है। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने उपराज्यपाल अनिल बैजल से सरकार और नौकरशाहों के साथ बैठक कराने का अनुरोध किया था जिसके बाद आईएसएस अधिकारियों की ओर से यह बयान आया है।

आईएएस एजीएमयूटी संगठन ने कहा कि नौकरशाहों की सुरक्षा और गरिमा सुनिश्चित करने का मुख्यमंत्री का आश्वासन मिलने के बाद अधिकारी बैठक के लिए औपचारिक संदेश मिलने का इंतजार कर रहे हैं। हालांकि सूत्रों ने कहा कि बैजल बैठक का आयोजन नहीं कराएंगे क्योंकि एलजी कार्यालय पहले ही आप सरकार से अधिकारियों के साथ बैठक करने और मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ फरवरी में कथित मारपीट के बाद से चल रहे गतिरोध को समाप्त करने के लिए कह चुका है।

संगठन ने एक ट्वीट करके स्पष्ट किया कि मुख्यमंत्री से आश्वासन मिलने के बाद हम उनके साथ दिल्ली सचिवालय में बैठक के लिए औपचारिक निमंत्रण मिलने का इंतजार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली में काम चल रहा और कोई हड़ताल नहीं है। केजरीवाल और उनके मंत्रिमंड़लीय सहयोगी अधिकारियों को हड़ताल समाप्त करने के निर्देश देने की मांग पर उपराज्यपाल के कार्यालय पर धरना दे रहे हैं।

 मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, “हमने माननीय उप राज्यपाल को कल पत्र लिख कर सभी पक्षकारों की बैठक कराने की मांग की थी। हमें उनके जवाब का इंतजार है। माननीय उपराज्यपाल को माननीय प्रधानमंत्री की हरी झंडी का इंतजार, जिन्हें निर्णय लेना है। पूरी दिल्ली इंतजार कर रही है कि माननीय प्रधानमंत्री जल्द निर्णय लें।”

अधिक जानकारियों के लिए यहां क्लिक करें।