भारत ने आज पाकिस्तान के उप उच्चायुक्त को यहां समन कर इस्लामाबाद में अपने राजूदत और महावाणिज्य दूतावास के अधिकारियों को गुरुद्वारा पंजा साहिब जाने से रोकने और वहां गए भारतीय श्रद्धालुओं से मिलने से रोकने को लेकर कड़ा विरोध दर्ज कराया।

पाकिस्तानी पक्ष को बताया गया कि भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों को रोकना वियना समझौते और 1974 के द्विपक्षीय प्रोटोकॉल का उल्लंघन है।

इसने बताया कि उप उच्चायुक्त सैयद हैदर शाह को समन किया गया और भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया तथा महावाणिज्य दूतावास के अधिकारियों को पाकिस्तान के पंजाब प्रांत स्थित गुरुद्वारा पंजा साहिब जाने से रोकने और भारतीय श्रद्धालुओं से मिलने से रोकने पर कड़ा विरोध दर्ज कराया गया। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय से अनुमति मिलने के बावजूद अधिकारियों को वहां जाने और श्रद्धालुओं से मिलने से रोका गया।

विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर बताया कि इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायोग ने भी कड़ा विरोध दर्ज कराया है। बयान में कहा गया है, ‘‘भारत में अलगाववादी मुहिम को पाकिस्तान द्वारा लगातार मिल रहे समर्थन और भारतीय श्रद्धालुओं को भड़काने के प्रयास पर भी चिंता जताई गई। पाकिस्तानी अधिकारियों से कहा गया कि सुनिश्चित किया जाए कि इस तरह की कोई गतिविधि उसकी धरती से संचालित नहीं हो।’’

भारतीय उच्चायुक्त को दूसरी बार पाकिस्तान ने वहां गए भारतीय श्रद्धालुओं से मिलने से रोका है। भारतीय आयोजक शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (एसजीपीसी) ने इस घटना पर गंभीर चिंता और आश्चर्य जताया।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।