कांग्रेस के पूर्व नेता मणिशंकर अय्यर ने भारत और पाकिस्तान के बीच मुद्दों के समाधान के लिए निर्बाध बातचीत की पैरवी की है। अय्यर ने पाकिस्तान के कराची में हुए एक कार्यक्रम में कहा कि वह पाकिस्तान को उतना ही प्यार करते हैं जितना वह भारत को करते हैं। अय्यर ने यह भी कहा कि पाकिस्तान बातचीत के रास्ते खोलकर रखना चाहता है इसपर उन्हें गर्व है लेकिन भारत सरकार ऐसा नहीं कर रही जिसका उन्हें दुख है। कार्यक्रम के दौरान अय्यर ने कहा, ‘‘भारत-पाकिस्तान मुद्दों को हल करने के लिए एक ही रास्ता है और यह रास्ता निर्बाध बातचीत का है।’’

अय्यर ने बातचीत के जरिए मुद्दों को हल करने की कोशिश के लिए पाकिस्तान की सराहना की और कहा कि नयी दिल्ली के पास यह नीति नहीं है। इसके साथ ही मणिशंकर अय्यर ने कहा कि वह पाकिस्तान को इसलिए प्यार करते हैं क्योंकि वह भारत को प्यार करते हैं। उन्होंने कहा कि इस्लामाबाद द्विपक्षीय मुद्दों को सुलझाने के लिए बातचीत का रास्ता स्वीकार किया है जबकि नई दिल्ली ने नहीं किया। आपको बता दें कि मणिशंकर अय्यर इस समय कांग्रेस से निलंबित चल रहे हैं। गुजरात चुनाव के दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी का जिक्र करते हुए नीच शब्द का इस्तेमाल किया था। इसके बाद पीएम मोदी ने इसे चुनावी मुद्दा बना दिया।

नतीजा ये रहा कि कांग्रेस दबाव में आ गई और उनको पार्टी से निलंबित कर दिया गया। इतना ही नहीं राहुल गांधी को भी मीडिया के सामने कहना पड़ा कि अय्यर का बयान गलत था। हालांकि यह पहला मौका नहीं है जब अय्यर विवादों में फंसे हो। इससे पहले एक पाकिस्तानी समाचार चैनल पर पैनल चर्चा के दौरान अय्यर ने कथित रूप से कहा था कि अगर दोनों राष्ट्रों के बीच वार्ता शुरू करनी है तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को हटाना होगा। वहीं 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले उन्होंने नरेंद्र मोदी को ‘चाय वाला’ कह दिया था।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ।