कर्नाटक के एक मंत्री ने ये कहकर विवाद पैदा कर दिया कि उन्होंने सरकारी इस्तेमाल के लिए टोयोटा फॉर्च्यूनर की मांग की है क्योंकि वे “बचपन से ही वह बड़ी कारों” में चलने के आदी रहे हैं। उनके इस बयान की विपक्षी दल भाजपा ने आलोचना की है लेकिन कांग्रेस ने इसका बचाव किया है। खाद्य और नागरिक आपूर्ति मंत्री बी.जेड. जमीर अहमद खान ने कहा कि उन्हें टोयोटा इनोवा की मंजूरी दी गई है जिसे वह “कम स्तर” का मानते हैं और इसलिए फॉर्च्यूनर की मांग की है।

बता दें कि खान व्यवसायी परिवार से आते हैं। उन्होंने कहा , “मैं बचपन से ही बड़ी कारों से चलता रहा हूं। मुझे इनोवा की मंजूरी दी गई है। मैं इसे आरामदायक नहीं मानता क्योंकि मैं हमेशा बड़ी कारों से चलता रहा हूं … इनोवा छोटे स्तर की कार है।” बताया जाता है कि खान के पास 100 लग्जरी बसों का काफिला है।

मंत्री की मांग पर भाजपा प्रवक्ता एस. प्रकाश ने कहा कि खान के पास 100 लग्जरी बसों का काफिला है , उन्हें अपनी कार में चलना चाहिए। बहरहाल कांग्रेस सांसद सैयद नसीर हुसैन ने खान का बचाव करते हुए कहा कि मंत्री किसी विशेष वाहन की मांग कर रहे हैं तो इसमें कुछ भी गलत नहीं है।

अन्य विशेष खबरों के लिए पढ़िये पंजाब केसरी की अन्य रिपोर्ट।