नई दिल्ली : दक्षिण कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार को आतंकियों ने छुट्टी पर घर जा रहे एक सैन्यकर्मी को अगवा कर लिया था। जिसका शव सुरक्षाबलों ने बरामद कर लिया है। बता दें कि ईद की छुट्टियां मनाने के लिए औरंगजेब घर जा रहा था। बताया जा रहा है कि आतंकी समीर टाइगर के खिलाफ सेना ने जो ऑपरेशन चलाया था, उस ऑपरेशन में औरंगजेब मेजर शुक्ला के साथ ये जवान भी शामिल था। औरंगजेब की पोस्टिंग 44RR शादीमार्ग में थी, वह पुंछ का ही रहने वाला है। जिस दौरान वह घर जा रहा थे, तभी मुगल रोड पर उन्हें आतंकियों ने किडनैप कर लिया। ये किडनैपिंग सुबह करीब 9 बजे हुई थी।

जानकारी के अनुसार, गुरुवार सुबह 9 बजे के आस-पास शादीमर्ग, पुलवामा में स्थित सेना की 44 आरआर के जवानों ने अपने शिविर के बाहर एक सूमो टैक्सी को रोका और अपने एक साथी औरंगजेब को उसमें बैठा दिया। औरंगजेब जम्मू संभाग के जिला पुंछ का रहने वाला है। वह अपने घर ईद मनाने के लिए जा रहा था। सूमो टैक्सी में बैठकर उसे शोपियां पहुंचना था और वहां से उसे मुगल रोड के रास्ते पुंछ अपने घर जाना था, लेकिन शोपियां से कुछ दूर पहले कलमपोरा में स्वचालित हथियारों से लैस आतंकियों ने सूमो टैक्सी को रोका और औरंगजेब को अगवा कर लिया।

बता दें कि अगवा हुआ जवान 44 आरआर के उस दस्ते का हिस्सा था, जिसने मेजर शुक्ला के नेतृत्व में हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकी समीर बट को द्रबगाम पुलवामा में 30 अप्रैल 2018 को एनकाउंटर में ढेर कर दिया था।  दूसरी तरफ जम्मू-कश्मीर के बनिहाल इलाके में भी सीआरपीएफ के काफिले पर पत्थरबाजी हुई है।

24X7 नई खबरों से अवगत रहने के लिए क्लिक करे।