एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के सीएम नीतीश कुमार की सियासी दोस्ती पर विवादित बयान दिया है। बिहार में एक रैली को संबोधित करते हुए ओवैसी ने कहा, नीतीश कुमार और नरेंद्र मोदी की आशिकी लैला-मजनूं जैसी है। ओवैसी ने कहा, ‘लैला और मजनू सुनो जब तुम्हारी दास्तान मोहब्बत की लिखी जाएगी तो मोहब्बत का नाम नहीं लिखा जाएगा उस दास्तान में, नफरत का नाम लिखा जाएगा तुम्हारी दास्तान में, लिखेगा कि जब ये दोनों एक साथ आए हिंदुस्तान में हिंदू मुस्लिम तनाव में है।’

नीतीश कुमार और नरेंद्र मोदी की आशिकी बड़ी मज़बूत आशिकी है। लैला-मजनू से भी ज़्यादा मोहब्बत इन दोनों में है। नीतीश कुमार और मोदी की मोहब्बत की दास्तान जब लिखी जाएगी, मुझसे मत पूछिए इसमें लैला कौन है मजनू कौन है, आप तय कीजिये। केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर मुसलमानों की स्थिति को लेकर ओवैसी ब्रदर्स हमशा से हमलावर रहे हैं।

इससे पहले अकबरुद्दीन ओवैसी ने पीएम नरेंद्र मोदी पर निशाना साथा था। अकबरुद्दीन ओवैसी, हैदराबाद से एआईएमआईएम सांसद असदुद्दीन ओवैसी के भाई है और वो भी उनकी तरह जहर उगलते हैं। एक जनसभा में उन्होंने कहा था कि ये समझ के बाहर है कि पीएम नरेंद्र मोदी हैं क्या। कभी वो चायवाल बन जाते हैं, तो अब वो दूसरे रूप में नजर आ रहे हैं। इस चुनाव से ठीक पहले वो चौकीदार बन चुके हैं।

फ्रांसीसी अखबार का खुलासा- राफेल सौदे के ऐलान के बाद अंबानी की कंपनी का 14.37 करोड़ यूरो का कर माफ

अकबरुद्दीन ओवैसी ने कहा कि चायवाला बनकर उन्होंने देश को गुमराह किया और अब चौकीदार बन कर वही काम कर रहे हैं। पीएम मोदी जब चायवाला बने तो उस वक्त मैंने कहा कि चाय की केतली, चूल्हा मैं दूंगा चाय बनाकर वो पिलाएं। पीएम मोदी वो शख्स हैं जो कभी नाले की गैस से पकौड़ा बनाते हैं। और अब जब वो चौकीदार बन चुके हैं तो वो उन्हें टोपी और सीटी देंगे। ये बेहतर होता कि पीएम नरेंद्र मोदी टोपी और गले में सीटी बांधकर देश की चौकीदारी करें।