कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी आज देवभूमि उत्तराखंड के दौरे पर हैं। जहां वह राजधानी देहरादून में जनसभा को संबोधित किया। उत्तराखंड के पूर्व सीएम और बीजेपी नेता मेजर जनरल (सेवानिवृत्त) बीसी खंडूरी के बेटे मनीष खंडूरी के कांग्रेस में शामिल होने को लेकर राहुल ने कहा, मैं आपको बताऊंगा कि मनीष खंडूरी आज यहां क्यों हैं। आप सभी उनके पिता को अच्छी तरह से जानते हैं।

वह संसद रक्षा समिति के अध्यक्ष थे। उन्होंनेअपना सारा जीवन सेना को दिया। लेकिन जब उन्होंने संसद में राष्ट्रीय सुरक्षा पर एक सवाल पूछा और सच बोला कि जिस तरह से सरकार को सेना की मदद करनी चाहिए, वह वहां नहीं है, तो उसे उस समिति के अध्यक्ष से हटा दिया गया। जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल ने कहा, ‘उत्तराखंड की पवित्र भूमि पर आकर मुझे बहुत खुशी हो रही है।

सेना में उत्तराखंड की जो भागीदारी है, पूरा हिंदुस्तान उसका दिल से स्वागत करता है। पुलवामा में सीआरपीएफ के सैनिक शहीद हुए। पुलवामा ब्लास्ट के बाद हमने तुरंत कहा कि कांग्रेस पार्टी पूरे दम के साथ सरकार और देश के साथ खड़ी है। लेकिन उसी समय प्रधानमंत्री कॉर्बेट पार्क में वीडियो शूट में लगे हुए थे। मुस्कराते हुए साढ़े तीन घंटे वो यहां लगे रहे और दिनभर देशभक्ति की बात करते हैं।’ उन्होंने कहा कि बीजेपी में सच्चाई की कोई जगह नहीं है।

राहुल गांधी की मौजूदगी में पूर्व मुख्यमंत्री के बेटे मनीष खंडूरी कांग्रेस में हुए शामिल

जीएसटी से कारोबारियों को होने वाले नुकसान का हवाला देते हुए राहुल गांधी ने कहा कि हम गब्बर सिंह टैक्स को सच्ची जीएसटी में बदलेंगे, जिसमें एक साधारण टैक्स होगा। राहुल ने कारोबारियों को संबोधित करते हुए कहा, ‘जीएसटी से आपका जो नुकसान हुआ और जो कष्ट हुआ है, उसके लिए मैं आपसे नरेंद्र मोदी की तरफ से माफी मांगता हूं।

उन्होंने भयंकर गलती की है और हम इस गलती को सही करेंगे’। राहुल गांधी ने कहा, बीजेपी कहती है दो इंजन की सरकार होगी तो किसानों का फायदा होगा लेकिन क्या अभी तक आपका कर्ज माफ हुआ। वहीं दूसरी तरफ हमारी छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान में दस दिनों के भीतर कर्ज माफ कर दिया।

कांग्रेस में शामिल होने के बाद मनीष खंडूरी ने कहा, मेरा मानना है कि राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस देश को मजबूत बनाएगी। यहां आने से पहले, मैंने अपने पिता से आशीर्वाद मांगा। उन्होंने मुझसे पूछा कि क्या मैं सच्चाई के रास्ते पर चल सकता हूं, मैंने कहा, ‘हां’। संबोधन के बाद राहुल गांधी ने देहरादून में मेजर चित्रेश सिंह बिष्ट के परिवार से मुलाकात की। मेजर चित्रेश सिंह बिष्ट ने 16 अगस्त को राजौरी जिले, जम्मू कश्मीर में एलओसी के पार आतंकवादियों द्वारा लगाए गए एक आईईडी को डिफ्यूज करते हुए अपनी जान गंवा दी।