कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भाजपा नीत राजग सरकार पर चुनावी वादों को पूरा नहीं करने और राफेल लड़ाकू विमान सौदे में अनियमितता का आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा और कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ‘चौकीदार नहीं, बल्कि भागीदार हैं।’

केंद्र सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा में हिस्सा लेते हुए राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि राफेल विमान सौदे के विभिन्न आयामों को लेकर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने देश से असत्य बोला।

उन्होंने दावा किया , “मैं फ्रांस के राष्ट्रपति से स्वयं मिला था। उन्होंने मुझे बताया कि राफेल विमान सौदे को लेकर भारत और फ्रांस की सरकार के बीच गोपनीयता का कोई समझौता नहीं हुआ है।”

कांग्रेस अध्यक्ष ने सवाल किया कि प्रधानमंत्री को इसका जवाब देना चाहिए कि राफेल सौदे के प्रारूप को अचानक से क्यों बदला गया और हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड से कांट्रैक्ट लेकर उस उद्योगपति को क्यों दिया गया जिस पर 35 हजार करोड़ रुपये का कर्ज है। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री ने कहा था कि वह देश के चौकीदार हैं, लेकिन ‘वह चौकीदार नहीं, बल्कि भागीदार हैं।’

इसके अलावा राहुल ने किसानों, रोजगार, भीड़ द्वारा हत्या और महिला सुरक्षा के मुद्दे उठाए और सरकार पर वादों को पूरा करने में विफल रहने का आरोप लगाया। राहुल गांधी ने कहा कि पूरा देश प्रधानमंत्री की ‘जुमला स्ट्राइक’ से परिचित हो गया है। उन्होंने कहा कि हर खाते में 15 लाख भेजने का वादा और हर साल दो करोड़ लोगों को रोजगार देने का वादा प्रधानमंत्री की ‘जुमला स्ट्राइक’ हैं।