लोकसभा चुनाव के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ताबड़तोड़ रैलियां कर रहे है। इसी के मद्देनजर पीएम मोदी आज जम्मू के कठुआ में चुनावी रैली को संबोधित कर रहे हैं। रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, हम विस्थापित कश्मीरी पंडितों को कश्मीर में उनके पैतृक स्थानों पर बसाने के लिए प्रतिबद्ध हैं और इस दिशा में काम शुरू हो गया है। कांग्रेस की नीतियों के कारण कश्मीरी पंडितों को अपना घर छोड़ना पड़ा।

कांग्रेस कश्मीरी पंडितों का नाम लेने से बच सकती है लेकिन यह चौकीदार कश्मीरी पंडितों को उनकी जमीन पर रहने के लिए प्रतिबद्ध है। हम उन परिवारों को भी नागरिकता प्रदान करने के लिए कानून बनाने के प्रयास कर रहे हैं जो पाक से असहाय होकर आए हैं और ‘मां भारती’ पर विश्वास करते हैं।

कांग्रेस और उनके मित्र अपने वोट बैंक को लेकर इतने चिंतित थे कि उन्होंने कश्मीरी पंडितों पर होने वाले अत्याचारों की अनदेखी की। मैं कांग्रेस से पूछना चाहता हूं कि जब उन्होंने 60 साल तक अन्याय किया तो कौन न्याय करेगा? क्या कांग्रेस कभी कश्मीरी पंडितों को न्याय दिला पाएगी? क्या वे 1984 के दंगों में मारे गए लोगों को न्याय प्रदान कर पाएंगे? पीएम मोदी ने कहा, अब्दुल्ला परिवार और मुफ्ती परिवार ने जम्मू-कश्मीर की 3 पीढ़ियों का जीवन नष्ट कर दिया।

जम्मू-कश्मीर के उज्ज्वल भविष्य को उनके जाने के बाद ही सुनिश्चित किया जा सकता है। वे अपने पूरे कबीले को मैदान में ला सकते हैं, मोदी को जितना चाहें दुरुपयोग कर सकते हैं लेकिन वे इस देश को विभाजित नहीं कर पाएंगे। आपने पहले चरण के चुनावों में भारत में लोकतंत्र की ताकत साबित की है। बारामूला और जम्मू में भारी संख्या में मतदान करने के लिए, आपने ‘महामिलावत’ में आतंकवादी नेताओं, अवसरवादियों और लोगों को करारा जवाब दिया है।

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए पीएम मोदी ने कहा, पूरा देश कल जलियाँवाला बाग हत्याकांड का शोक मना रहा था लेकिन कांग्रेस ने इस संवेदनशील मौके का भी राजनीतिकरण कर दिया। सरकार ने जलियांवाला बाग में एक आयोजन किया था, जहां उपराष्ट्रपति ने शहीदों को श्रद्धांजलि दी, लेकिन कांग्रेस के सीएम वहां नहीं थे।

बसपा ने जारी की 16 उम्मीदवारों की एक और लिस्ट, गाजीपुर से लड़ेंगे अफजाल अंसारी

उन्होंने कहा, उन्होंने इस कार्यक्रम का बहिष्कार किया। तुम जानते हो क्यों? क्योंकि वह ‘कांग्रेस परिवार’ की ‘भक्ति’ में व्यस्त थे। वह नामदार के साथ जलियांवाला बाग गए, लेकिन उपराष्ट्रपति के साथ कार्यक्रम में जाना ठीक नहीं समझा। यह ‘राष्ट्रभक्ति’ और ‘परिवार भक्ति’ के बीच का अंतर है। मैं कैप्टन अमरिंदर सिंह को लंबे समय से जानता हूं। मैंने कभी उनकी देशभक्ति पर सवाल नहीं उठाया। मैं उस तरह के दबाव को समझ सकता हूं जो इस तरह की ‘परिवार भक्ति’ ’के लिए उस पर डाला गया है।

पीएम मोदी ने कांग्रेस, नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी पर निशाना साधते हुए कहा, बीते कुछ दिनों में आपने भी देखा कि किस तरह कांग्रेस, नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी की महामिलावट पूरी तरह से एक्सपोज़ हो गई है, खुलकर सामने आ गई है।