रविवार से मुंडका-बहादुरगढ़ रूट पर दिल्ली मेट्रो दौड़ने लगेगी, जिससे रोजाना दिल्ली और हरियाणा जाने वाले हजारों लोगों को इसका लाभ मिलेगा। दरअसल इंद्रलोक-मुंडका ग्रीन लाइन का विस्तार करके इसे बहादुरगढ़ तक बढ़ाया गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सुबह दस बजे वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये इसका उद्घाटन करेंगे। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल और केंद्रीय शहरी विकास राज्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी सबसे पहले मेट्रो की सवारी करेंगे।

सूत्रों ने आज बताया कि मुंडका – बहादुरगढ़ खंड में सात स्टेशन हैं और इसके चालू होने के साथ मौजूदा ग्रीनलाइन का इंद्रलोक से मुंडका तक विस्तार हो जाएगा।

एक उच्च स्तरीय सूत्र ने कहा , ‘‘ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को प्रधानमंत्री कार्यालय से एक रिमोट कंट्रोल के जरिये सेवा का उद्घाटन करेंगे। ’’

सूत्र ने कहा कि शहरी मामलों के केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी और हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर हरियाणा के बहादुरगढ़ में उद्घाटन समारोह में शामिल होंगे। नये कॉरिडोर पर सेवाएं 24 जून को शाम चार बजे से शुरू होंगी।

इस खंड पर सेवा शुरू होने के साथ दिल्ली मेट्रो का नेटवर्क 288 किलोमीटर तक बढ़ जाएगा जिसमें 208 स्टेशन होंगे।

डीएमआरसी के मुताबिक, बहादुरगढ़ से दिल्ली जाने वालों को अब परेशानी नहीं होगी। अभी ग्रीन लाइन पर इंद्रलोक और कीर्ति नगर से मुंडका के लिए मेट्रो सेवा उपलब्ध थी, लेकिन रविवार से यह सेक्शन बहादुरगढ़ तक के लिए खुल जाएगा।

उद्घाटन के बाद शुरू में यात्रियों को इस सेक्शन पर 20-25 मिनट तक मेट्रो का इंतजार करना पड़ सकता है। इस रूट पर यात्रियों की संख्या करीब एक लाख 43 हजार तक पहुंचने का अनुमान है।

आपको बता दे कि ग्रीन लाइन कॉरीडोर के मुंडका इंडि‍स्‍ट्रि‍यल एरिया मेट्रो स्टेशन को सुंदर टेराकोटा डिजाइनों से सजाया गया है। अन्‍य सभी स्‍टेशनों में भी चमकीले एवं जीवंत रंगों का प्रयोग कर सजाया गया है। प्‍लेटफॉर्म पर पिलरों का रंग चमकीला पीला रखा गया है।

सभी स्‍टेशनों पर लिफ्ट को भी इको-फ्रेंडली लाल टेराकोटा टाइल्‍स से तैयार किया गया जो संरचनाओं को जीवंतता प्रदान कर रहे हैं एलीवेटेड स्‍टेशनों की छतों को भी और अधिक सुंदर बनाने के लिए दोबारा डिजाइन किया गया है।

वही , बहादुरगढ़ डिपो में कुल 783 किलोवाट क्षमता वाले रूफ-टॉप सोलर प्‍लांट विभिन्‍न छतों पर लगाए गए हैं। इससे प्रति दिन लगभग 2800 यूनिट प्रति दिन बिजली बनने का अनुमान है।

इन संयंत्रों से उत्‍पन्‍न ऊर्जा इन स्‍टेशनों के पूरे दिन के सहायक लोड को पूरा करने के लिए पर्याप्‍त होगी. मुंडका – बहादुरगढ लाइन पर मौजूद सात स्‍टेशनों की आईजीबीसी रेटिंग प्‍लेटिनिम है।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।