मॉस्को : रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन और जॉर्जिया के साथ घनिष्ठ संबंध बनाने को लेकर नाटो को चेतावनी दी है। श्री पुतिन ने गुरुवार को कहा कि उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) की यह नीति गैर जिम्मेदाराना है और इसके लिए उसे गंभीर अनिश्चित परिणाम भुगतने होंगे। श्री पुतिन ने मॉस्को में विश्वभर से एकत्र हुए रूसी राजनयिकों को संबोधित करते हुए कहा कि यूरोप में आपसी विश्वास को दोबारा बहाल करने की जरुरत है। श्री पुतिन ने रूसी सीमा के नजदीक सैन्य ठिकाने स्थापित करने की नाटो की कोशिश का कड़ विरोध किया है।

श्री पुतिन ने कहा कि नाटो के ऐसे आक्रामक कदम रूस के लिए गंभीर खतरा हैं जिसका हम उचित जवाब देंगे। उल्लेखनीय है कि यूक्रेन और जॉर्जिया दोनों ही देशों की सीमा रूस से सटी हुयी है। रूस चाहता है कि दोनों देश नाटो में शामिल न हों। रूस का मानना है कि नाटो एक बंधक बनाने वाला सैन्य संगठन है। नाटो सदस्य देशों के नेता यूक्रेन और जॉर्जिया को इस संगठन में शामिल करना चाहते हैं।

रूसी राष्ट्रपति ने कहा कि उन्होंने सोमवार को फिनलैंड की राजधानी हेलसिंकी में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ हुयी शिखर वार्ता के दौरान भी इस मुद्दे को उठाया था। अमेरिकी राष्ट्रपति ने नाटो सदस्य देशों से रक्षा बजट बढ़ने की अपील की है। गौरतलब है कि रूस की सेना ने 2008 में दो जॉर्जियाई क्षेत्रों में प्रवेश करने के बाद 2014 में यूक्रेन के क्रीमिया पर कब्जा कर लिया था जिसके बाद पूर्वी यूक्रेन में रूसी समर्थक अलगाववादी विद्रोह शुरू हुआ था।