कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी नेताओं को सोच समझकर बोलने की नसीहत देते हुए कहा है कि किसी भी नेता की गलत बयानी उनकी लड़ाई को कमजोर कर सकती है।

कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख रणदीपसिंह सुरजेवाला ने पार्टी की सर्वोच्च नीति निर्धारक संस्था कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा कहा श्री गांधी ने पार्टी के नेताओं को मर्यादित भाषा बोलने और अनुशासित रहने की सलाह दी है।

प्रवक्ता ने कहा कि श्री गांधी ने बैठक में कहा ‘ कांग्रेस में सबको बोलने की आजादी है। हर किसी को पार्टी फोरम पर अपनी बात रखने का हक है। सभी नेताओं को शब्दों की मर्यादा और अनुशासन की परिधि का ध्यान रखना। मैं बड़ लड़ई लड़ रहा हूं लेकिन किसी भी नेता की कोई भी गलत बयानबाजी मेरी लड़ाई को कमजोर करेगी।’

उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने देश की जनता से किया वादा पूरा नहीं किया है। मोदी सरकार देश के लोकतंत्र को नुकसान पहुंचा रही है और संवैधानिक संस्थाओं को कमजोर कर रही है। उन्होंने कहा कि मौजूदा माहौल देश के लिए घातक है और इस माहौल से देश की जनता को आजादी देने का काम कांग्रेस को मर्यादित और संयमित होकर करना है।

कांग्रेस सूत्रों ने कहा कि श्री गांधी ने कहा कि वह सिद्धांतों की लड़ई लड़ रहे हैं और उन्होंने 2019 के चुनाव का बिगुल फूंक दिया है। पार्टी के कुछ बड़ नेताओं की गलत बयानबाजी से उनकी यह लड़ाई कमजोर हो रही है। उन्होंने परोक्षरूप से वरिष्ठ नेता शशि थरूर की तरफ इशारा करते हुए कहा कि गलतबयानी अब बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

समझा जाता है कि श्री गांधी का संकेत पूर्व केन्द्रीय मंत्री शशि थरूर समेत बड़बोले नेताओं की ओर था जिन्होंने हिन्दू पाकिस्तान और हिन्दू तालिबान जैसे शब्दों का प्रयोग करके भाजपा को कांग्रेस पर निशाना साधने का चारा दे दिया है।