ऐसे समय में जब तमिलनाडु के प्रमुख राजनीतिक दल केंद्र सरकार की ‘एक देश, एक चुनाव’ के प्रस्ताव का विरोध कर रहे हैं, ऐसे में अभिनेता से नेता बने रजनीकांत रविवार को इसके समर्थन में उतरे। रजनीकांत ने कहा, ‘एक देश, एक चुनाव’ एक बेहतरीन विचार है। इससे समय और राजनीतिक दलों की धनराशि की बचत होगी।

उन्होंने यह भी कहा कि आम चुनाव लड़ने का फैसला बाद में लिया जाएगा। रजनीकांत ने इससे पहले कहा था कि उनकी पार्टी अगला विधानसभा चुनावों चुनाव लड़ेगी। प्रस्तावित चेन्नई-सेलम आठ लेन एक्सप्रेसवे के बारे में पूछे जाने पर राजनीकांत ने कहा कि ऐसी परियोजनाएं औद्योगिक निवेश लाएंगी।

हालांकि, उन्होंने कहा कि सरकार को यह देखना चाहिए कि परियोजना के लिए केवल न्यूनतम भूमि अधिग्रहित की गई है और भूमि मालिकों को इस हद तक मुआवजा दिया जाता है कि वे खुश हैं। यह पूछे जाने पर कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह का कहना है कि तमिलनाडु में बहुत भ्रष्टाचार है, इस पर रजनीकांत ने कहा, ‘यह शाह का नजरिया है और मीडिया को उनसे पूछना चाहिए।’

रजनीकांत के अनुसार, राज्य सरकार बड़ी परियोजनाएं ला सकती हैं। उन्होंने तमिलनाडु के स्कूल शिक्षा मंत्री के. ए. सेंगोटेया को बेहतर प्रदर्शन के लिए सराहा। उन्होंने कहा कि देश के अन्य राज्यों की तुलना में तमिलनाडु में शिक्षा प्रणाली बहुत बेहतर है।