अंतरराष्ट्रीय बाजार में गिरावट का असर घरेलू बाजार में भी देखने को मिला है। शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 1000 अंकों तक टूट गया जबकि निफ्टी ने 10,150 के नीचे तक गोता लगाया। सेंसेक्स और निफ्टी में 2.5 फीसदी से ज्यादा की कमजोरी के साथ कारोबार देखने को मिल रहा है।  शेयर बाजार के खुलते ही सेंसेक्‍स में 1,037.36 अंक की गिरावट दर्ज की गई। वहीं निफ्टी में 10,138.60 पर पहुंच गया। निफ्टी में 321.5 अंक की गिरावट दर्ज की गई. गुरुवार सुबह 9:35 पर सेंसेक्‍स 33,723.53 अंक और निफ्टी 10,138.60 पर कारोबार कर रहे हैं। वहीं डॉलर के मुक़ाबले रुपया भी लगातार धड़ाम हो रहा है। आज रुपया फिर 9 पैसे कमज़ोर होकर 74.30 पर खुला। ये गिरावट जारी है और कारोबार के दौरान इस वक्त 74.47 के नए निम्नतम स्तर पर पहुंच गया है।

उधर, घटे भाव पर लिवाली और डॉलर के मुकाबले रुपये में सुधार से देश के शेयर बाजारों में बुधवार को तेजी का रुख रहा था। बैंकिंग, ऑटो और धातु शेयरों में निवेशकों की लिवाली से बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 461 अंक उछलकर 34,760.89 अंक पर बंद हुआ था। बाजार में गिरावट के बाद बुधवार को निवेशकों की लिवाली का जोर रहा था। लिवाली समर्थन से कारोबार के दौरान करीब करीब सभी सूचकांक सकारात्मक रुख में रहे। नकदी संकट से जूझ रही गैर-बैंकिंग वित्त कंपनियों (एनबीएफसी) को संकट से उबारने के लिये स्टेट बैंक के आगे आने से भी कारोबारी धारणा को बल मिला। स्टेट बैंक ने एनबीएफसी की 45,000 करोड़ रुपये की परिसंपत्तियां खरीदने का फैसला किया है।

आईएल एण्ड एफएस समूह की कंपनियों के विभिन्न देनदारियों में असफल होने से एनबीएफसी क्षेत्र की कंपनियां दबाव में थी। बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स बुधवार को लिवाली समर्थन से कारोबार के दौरान 34,858.35 अंक की ऊंचाई छूने के बाद 461.42 अंक यानी 1.35 प्रतिशत बढ़कर 34,760.89 अंक पर बंद हुआ था। व्यापक आधार वाला निफ्टी भी एक बार फिर से 10,400 अंक से ऊपर निकल गया. कारोबार के दौरान यह 10,482.35 अंक की ऊंचाई छूने के बाद समाप्ति पर 159.05 अंक यानी 1.54 प्रतिशत ऊंचा रहकर 10,460.10 अंक पर बंद हुआ था।