भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने एयर एशिया इंडिया द्वारा अंतरराष्ट्रीय उड़ान लाइसेंस हासिल करने की कोशिश में कथित तौर पर ‘ लाबिंग ’ करने के मामले में आज उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया।

उन्होंने अपनी याचिका में सीबीआई तथा प्रवर्तन निदेशालय (ED) को मामले में अब तक की अपनी जांच के संदर्भ में स्थिति रिपोर्ट जमा करने का निर्देश देने का आग्रह किया है।

एयर एशिया इंडिया पर नीतियों के हेरफेर तथा विदेशी निवेश नियमों का उल्लंघन करते हुये अंतरराष्ट्रीय उड़ान लाइसेंस प्राप्त करने की कोशिश करते हुये ‘ लाबिंग ’ का आरोप है।

कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और न्यायाधीश सी हरि शंकर की पीठ ने कहा कि वह मामले की सुनवाई 10 अक्तूबर को करेगी।

आवेदन स्वामी तथा फेडरेशन आफ इंडियन एयलाइंस (एफआईए) की लंबित याचिका के संदर्भ में दिया गया है। याचिका में एयर एशिया इंडिया तथा विस्तार को उड़ान लाइसेंस देने को चुनौती दी गयी है। एफआईए जेट एयरवेज , इंडिगो , स्पाइसजेट तथा गोयएयर जैसी निजी विमानन कंपनियों का समूह है।