सुषमा ने अमेरिका ,चीन और PAK को दिया एक साथ जवाब


Sushma Swaraj Russia

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि पिछले तीन साल में विदेशों में फंसे 80 हजार से ज्यादा लोगों को भारत वापस लाया गया है। 3 साल पहले राजग सरकार के गठन के बाद विदेशी प्रत्यक्ष निवेश में 37.5 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। डोनाल्ड ट्रंप के दौर में भारत-अमेरिका संबंध उसी तरह प्रगति कर रहे हैं जिस तरह से ओबामा के राष्ट्रपति काल में प्रगति कर रहे थे। भारत ने पेरिस समझौते पर दबाव या धन के लाभ के लिए दस्तखत नहीं किए है। हमने चीन की ‘वन बेल्ट वन रोड’ परियोजना का विरोध भारत की संप्रभुता के चलते किया।

चमोली जिले में भारतीय वायुसीमा में चीनी हेलीकाप्टरों के आने पर सुषमा ने कहा, भारत चीन के समक्ष वायुसीमा उल्लंघन का मामला उठाएगा। भारत चाहता है कि एनएसजी में उसकी सदस्यता का समर्थन करने वाले देश चीन के समर्थन के लिए चीनी नेताओं से बात करें। भारत पाकिस्तान के साथ अपने सभी मामले द्विपपक्षीय आधार पर हल करना चाहता है लेकिन बातचीत और आतंकवाद दोनों साथ साथ नहीं चल सकते। भारत की पाकिस्तान के मामले में कोई ढुुलमुल नीति नही है। पाकिस्तान कश्मीर का मुद्दा अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत में नहीं ले जा सकता। कश्मीर का मसला सिर्फ द्विपक्षीय आधार पर हल किया जा सकता है।