उत्तर प्रदेश में अपनी जड़े मजबूत करने की कवायद में जुटी कांग्रेस ने समाजवादी पार्टी (सपा) बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) गठबंधन के लिये सात सीटें छोड़ने का ऐलान किया है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर ने रविवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा ‘‘ सपा-बसपा-रालोद गठबंधन ने कांग्रेस का सम्मान करते हुए अमेठी और रायबरेली सीटों पर अपना उम्मीदवार नहीं खड़े करने का फैसला लिया था।

राज बब्बर ने कहा, हमने जन अधिकार पार्टी (JAP) के साथ 7 सीटों पर समझौता किया है, उन 7 में से जन अधिकार पार्टी 5 पर लड़ेगी। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजबब्बर ने बताया कि उन्होंने अपना दल के लिए भी दो सीटें छोड़ने का ऐलान किया है। अपना दल के लिए गोंडा और पीलीभीत की सीटें खाली रखी गईं हैं। मित्रता की इसी कड़ी को आगे बढाते हुए कांग्रेस भी गठबंधन के लिये प्रदेश की सात सीटों को छोड़गी।

बिहार : राजग में सीटों का बंटवारा, जानें किसके खाते में आई कौन सी सीट

उन्होने कहा कि सपा सरंक्षक मुलायम सिंह यादव के अलावा डिंपल यादव, अक्षय यादव के सम्मान में कांग्रेस क्रमश: मैनपुरी, कन्नौज और फिरोजाबाद में अपना उम्मीदवार खड़े नहीं करेगी। इसके अलावा बसपा सुप्रीमो मायावती जिस सीट से चुनाव लड़गी, वहां कांग्रेस का उम्मीदवार घोषित नहीं किया जायेगा। साथ ही रालोद अध्यक्ष अजित सिंह और उपाध्यक्ष जयंत चौधरी भी जिस सीट से चुनाव लड़ना चाहेंगे, उन जगहों पर उन्हे कांग्रेस का सामना नहीं करना पडेगा।

rahul-akhilesh

एक अन्य सीट के बारे में जल्द ही खुलासा किया जायेगा। शिवपाल सिंह यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) से तालमेल ना करने पर राज बब्बर ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को केंद्र की सत्ता से दूर रखने की हर मुमकिन कोशिश की जायेगी। इस रणनीति के तहत जमीनी नेताओं को साथ लिया जायेगा और ऐसे किसी भी दल अथवा नेता का साथ कांग्रेस हरगिज नहीं देगी जिससे जाने अनजाने मे बीजेपी को लाभ मिलता हो।

उन्होने कहा कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस जन अधिकार पार्टी (जअपा) के साथ सात सीटों के लिये गठबंधन करेगी। इसके तहत पांच सीटो पर जन अधिकार पार्टी अपने चुनाव चिन्ह पर चुनाव लडेगी जबकि दो पर उसके उम्मीदवार कांग्रेस के सिंबल पर चुनाव मैदान पर उतरेंगे।

जअपा महासचिव आईपी कुशवाहा की मौजूदगी में राज बब्बर ने कहा कि झांसी, चंदौली,एटा, बस्ती और एक अन्य सीट पर जअपा उम्मीदवार किस्मत आजमायेंगे जबकि गाजीपुर एवं एक अन्य पर उसके उम्मीदवार कांग्रेस के चुनाव चिन्ह पर मैदान में उतरेंगे।