संसद के मॉनसून सत्र का तीसरा दिन है और आज लोकसभा में मोदी सरकार के खिलाफ पहले अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग कराई जाएगी। मोदी सरकार के खिलाफ लोकसभा में आज सुबह 11 बजे से अविश्‍वास प्रस्‍ताव पर चर्चा शुरू हो गई। सदन की कार्यवाही शुरू होते ही जय श्रीराम के नारे लगाए गए। बीजेडी ने कार्यवाही शुरू होते ही सदन से वॉकआउट कर दिया। इस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुस्‍कुराए। चर्चा की शुरुआत टीडीपी के नेता जयदेव गल्‍ला के भाषण से हुई। जयदेव गल्‍ला ने आंध प्रदेश और तेलंगाना का मुद्दा सदन में उठाया।

 

विश्‍वास प्रस्‍ताव पर कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने बोलना शुरू किया है। राहुल गांधी विकास और अन्‍य मुद्दों पर मोदी सरकार को घेर रहे हैं। राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि वह बड़े कारोबारियों का सहयोग करते हैं लेकिन देश की जनता के लिए उनके दिल में जगह नहीं है। राफेल सौदे पर भी राहुल ने सरकार पर निशाना साधा। उन्‍होंने कहा कि जब पीएम मोदी गए तो सौदे का बजट बढ़ा दिया गया। जादू से यह दाम 1600 करोड़ रुपये हो गया।

राहुल गांधी ने रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण पर भी निशाना साधा। उन्‍होंने रक्षा मंत्री पर राफेल सौदे के सही दाम न बताने का आरोप लगाया। इस पर स्‍पीकर सुमित्रा महाजन ने कहा ‘राहुल ने बार-बार रक्षा मंत्री का नाम लिया है, इसलिए उन्‍हें जवाब देने का मौका दिया जाएगा’।

इससे पहले जयदेव बोले उनके बाद बीजेपी सांसद राकेश सिंह को बोलने का समय दिया गया है। वह सरकार का पक्ष रख रहेे हैं। उन्‍होंने कांग्रेस के शासन काल में हुए विभिन्‍न घोटालों को सदन में गिनाया। कांग्रेस ने अपने शासनकाल में देश की जनता को वोटबैंक के रूप में इस्‍तेमाल किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने देश के विकास को नई दिशा दी है। उन्‍होंने कहा कि यह अविश्‍वास प्रस्‍ताव देश समझ नहीं पा रहा है। उन्‍होंने कहा कि आजादी के बाद से देश में एक ही परिवार के लोगों का शासन रहा है। उन्‍होंने कहा कि आजादी के बाद यह शासन करीब 48 साल का रहा। उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस को एक ही परिवार की सरकार के सिवाय कोई दूसरी सरकार नहीं पसंद है।

आंध्र प्रदेश को विशेष राज्‍य के दर्जे की मांग के मुद्दे पर जयदेव गल्‍ला ने कहा कि आंध्र प्रदेश की जनता धमकी नहीं, श्राप दे रही है। उन्‍होंने पूछा कि नई राजधानी अमरावती को पैसा देने के वायदे क्‍यों पूरे नहीं हुए। उन्‍होंने यह भी पूछा कि पीएम मोदी के ना खाऊंगा और ना खाने दूंगा के नारे का क्‍या हुआ।

उनका कहना है कि आंध प्रदेश के बंटवारे के बाद राज्‍य से 90 फीसदी संस्‍थाएं तेलंगाना में चली गईं। उनका कहना है कि बंटवारे के बाद आंध्र प्रदेश कृषि आधारित राज्‍य बन गया है। राज्‍य में उद्योग धंधे का अनुपात भी कम हो गया है। जयदेव गल्‍ला का कहना है कि आंध्र प्रदेश के 5 करोड़ लोगों के साथ अन्‍याय हुआ। उन्‍होंने कहा कि आंध्र प्रदेश के लोगों से झूठे वादे किए गए। उन्‍होंने पीएम मोदी से पूछा कि क्‍या वह बताएंगे कि जो वादे उन्‍होंने किए, उन्‍हें वह पूरा करेंगे. उनका कहना है कि पीएम मोदी ने हमारा भरोसा तोड़ा है।

बीजेपी चुनावी साल में इसे एक बड़े मौके के तौर पर देख रही है। अभी लोकसभा में स्पीकर को छोड़ कर 533 सदस्य हैं और 11 सीटें खाली हैं। एनडीए के पास 312 सांसद हैं जो बहुमत के आंकड़े 267 से काफी ज्यादा है। बीजेपी की कोशिश एआईएडीएमके और टीआरएस के 48 सासंदों से अपने पक्ष में वोट डलवा कर देश के सामने एनडीए की बढ़ी ताकत दिखाने की है। ऐसे में एनडीए प्लस को 360 वोट मिल सकते हैं। वो यह साबित करना चाहती है कि चुनावी साल में उससे सहयोगी दल छिटक नहीं रहे बल्कि नए सहयोगी दल मिल रहे हैं।

LIVE UPDATES

  • राहुल ने संसद में उठाया जय शाह का मुद्दा, बीजेपी सांसदों ने जताई आपत्ति। स्पीकर ने बयान को सदन की कार्यवाही से हटाने के लिए कहा। राहुल बोले कि पीएम खुद को प्रधानसेवक बोलते हैं लेकिन अमित शाह के बेटे जय शाह पर कुछ नहीं बोलते।
  •  राहुल ने कहा कि जीएसटी कांग्रेस लेकर आई थी और तब आपने विरोध किया था। पीएम मोदी की जीएसटी से करोड़ों लोग बर्बाद हुए। पीएम मोदी विदेश जाते हैं लेकिन अपने सुरक्षा घेरे से बाहर नहीं निकलते और उनकी बात सिर्फ सूट-बूट वाले कारोबारियों से ही मिलते हैं छोटे दुकानदारों से नहीं।
  •  लोकसभा में राहुल गांधी ने कहा कि पता नहीं कहा से मैसेज लिया और पीएम ने रात को 8 बजे कालेधन के खिलाफ नोटबंदी का ऐलान कर एक्शन लिया। समझ नहीं थी कि इससे छोटे कारोबारियों को कितना नुकसान हुआ और आज बेरोजगार 7 साल के सबसे उच्च स्तर पर है।
  • लोकसभा में राहुल गांधी ने बीजेपी ने देश को जुमले दिए। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी 2 करोड़ युवाओं को रोजगार का वादा किया था लेकिन दिया सिर्फ 4 लाख युवाओं को। चीन 24 घंटे में 50 हजार युवाओं को रोजगार देता है और आप 400 युवाओं को 24 घंटे में रोजगार देते हो। कभी कहते हैं पकौड़े बनाओ, कभी कहते हैं कि दुकान खोलो. यही बीजेपी का खोखलापन है।
  • लोकसभा में राहुल गांधी ने टीडीपी सांसद गल्ला को संबोधित करते हुए कहा कि आप आज राजनीतिक हथियार के शिकार है जिसे जुमला स्ट्राइक कहा जाता है। उन्होंने कहा कि टीडीपी ही नहीं पूरा देश बीजेपी की इस जुमला स्ट्राइक का शिकार है।
  • लोकसभा में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का संबोधन शुरू
  • राकेश सिंह ने कहा कि किसी एक राज्य की मांग के सामने पूरे देश के हितों के बलिदान नहीं किया जा सकता।
  • लोकसभा में राकेश सिंह ने कहा कि कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व बेल पर केंद्रीय मंत्री जेल पर थे। कांग्रेस ने देश को दागदार सरकार दी है जबकि पीएम मोदी के नेतृत्व में देश में साफ-सुथरी सरकार मिली है। देश में गरीबों का कल्याण हो रहा है और 2022 तक हर गरीब को छत मिलने का ऐलान पीएम की ओर से किया गया है।
  • राकेश सिंह ने कहा कि कांग्रेस ने घोटालों की सरकार दी जिससे भारत का सिर दुनिया के सामने झुका है. उन्होंने कहा कि 70 साल में गरीबी हटाओ के नारे लगे लेकिन देश की गरीब जनता को मुख्यधारा से हटना पड़ा. राकेश ने कहा कि कांग्रेस के ऐसे हुनर का पालन किसी भी दल को नहीं करना चाहिए।
  • बीजेपी सांसद राकेश सिंह ने प्रस्ताव के खिलाफ बोलते हुए कहा कि कांग्रेस के साथ जाकर टीडीपी शापित हो गई है वह क्या बीजेपी को श्राप देगी। उन्होंने कहा कि कर्नाटक में कांग्रेस के साथ देकर कुमारस्वामी आंसू बहा रहे हैं और अब इस प्रस्ताव का साथ देकर भी कई दलों को रोना पड़ेगा।
  • लोकसभा स्पीकर ने रक्षा मंत्री की आपत्ति पर कहा कि वह रिकॉर्ड चेक करेंगे और अगर पीएम के खिलाफ कुछ भी आपत्तिजनक बोला गया है तो उसे सदन की कार्यवाही से हटाया जाएगा।
  • TDP सांसद ने लोकसभा में पीएम पर की अभद्र टिप्पणी सदन में हंगामा, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने सासंद की टिप्पणी को सदन की कार्यवाही से हटाने की मांग की।
  • स्पीकर ने बीजेपी सांसद राकेश सिंह को बोलने के लिए कहा, राकेश सिंह का संबोधन शुरू, प्रस्ताव के खिलाफ बोल रहे हैं बीजेपी सांसद
  •  स्पीकर ने गल्ला को संबोधन खत्म करने के लिए कहा, टीडीपी सांसदों ने की सीट से खड़े होकर नारेबाजी
  • टीडीपी सांसद जयदेव गल्ला ने कहा आंध्र प्रदेश को जितना पैसा दिया गया उससे ज्यादा को सुपरहिट फिल्म बाहुबली ने कलेक्शन किया है।
  • जयदेव गल्ला ने कहा कि गुजरात में सरदार पटेल के लिए जितना पैसा दिया जा रहा है उससे कम पैसा आंध्र की राजधानी अमरावती के लिए दिया जा रहा है। पीएम ने दिल्ली से भी बड़ी राजधानी बनाने का वादा किया था।
  • टीडीपी सांसद ने कहा कि आंध्र प्रदेश में परियोजनाओं के लिए जितनी पैसे का ऐलान किया गया था उतना पैसा कभी नहीं दिया गया। पिछड़े इलाकों के लिए दिए जाने वाले पैकेज तक में कटौती की गई। पूरे फंड का सिर्फ 2-3 फीसद हिस्सा ही दिया गया, क्या इसे वादा पूरा करना कहते हैं।
  • गल्ला ने कहा कि केंद्र ने हमारे खाते से पैसे वापस लिए जिससे राज्य को काफी वित्तीय नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि आंध्र के लिए जो परियोजनाओं लाने की बात की गई थी उसके लिए भी कोई दिशा-निर्देश नहीं दिए गए।
  • विपक्षी दलों के सांसदों ने गल्ला के लंबा बोलने पर आपत्ति जताई, कुछ दलों को शिकायत है कि गल्ला तय वक्त से ज्यादा बोल रहे हैं।
  • गल्ला ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि आपने आंध्र के साथ किए गए वादों को पूरा नहीं किया, उन्होंने कहा कि पीएम भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की बात करते हैं लेकिन कर्नाटक चुनाव में जनार्दन रेड्डी और उनके लोगों को टिकट क्यों दिया गया।
  •  जयदेव गल्ला ने कहा कि आंध्र को संसाधन नहीं दिए गए जिनकी जरुरत राज्य की जनता को थी।
  • गल्ला ने लोकसभा में पीएम मोदी को संबोधित करते हुए कहा कि क्या आपके वादों में कोई ताकत है। सदन के पटल पर कहे गए शब्दों की आपके लिए कोई अहमियत है। उन्होंने कहा कि 2014 के विधानसभा चुनाव में भी मोदी ने रैली में आंध्र के स्पेशल स्टेटस देने का वादा किया था।
  •  टीआरएस ने गल्ला के बयान पर जताई आपत्ति. गल्ला ने कहा कि था कि आज आंध्र प्रदेश असफल है जबकि तेलंगाना को ज्यादा राजस्व दिया जा रहा है, बंटवारे के बाद हमारे साथ न्याय नहीं हुआ।
  • जयदेव गल्ला ने कहा कि आज वादों और नैतिकता की लड़ाई है। उन्होंने कहा कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने खुद टीडीपी के खिलाफ जंग का ऐलान किया। अभी भी अनिश्चितता का माहौल है और आंध्र के सामने कई चुनौतियां हैं।
  •  टीडीपी सांसद जयदेव गल्ला ने प्रस्ताव पर पार्टी का समर्थन करने वाले दलों का आभार जताया। गल्ला ने कहा कि पहली बार सांसद बनने के साथ अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा शुरु करना मेरे लिए गौरव की बात।
  • टीडीपी सांसद जयदेव गल्ला ने अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा की शुरुआत की।
  • संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार ने कहा कि वनडे के जमाने में 5 दिन का टेस्ट संभव नहीं है। खड़गे ने मांगा था 2 दिन तक अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा का वक्त
  • लोकसभा से बीजेडी का वॉकआउट
  • नेता प्रतिपक्ष ने कांग्रेस समेत अन्य दलों को बोलने के लिए दिए गए तय वक्त पर आपत्ति जताई. उन्होंने कहा कि 5 घंटे में सभी विपक्षी दलों के सांसदों के बोल पाना संभन नहीं है।
  •  सुमित्रा महाजन ने लोकसभा में बताया कि अब हम अविश्वास प्रस्ताव लेंगे और 6 बजे तक प्रस्ताव पर चर्चा खत्म करनी है। सदन सहमत हुआ तो लंच भी रद्द किया जा सकता है। उन्होंने सांसदों ने तय वक्त में अपनी बात कहने की अपील की।
  • लोकसभा में बीजेपी सांसदों ने लगाए जय श्री राम के नारे, पटल पर रखे जा रहे हैं दस्तावेज
  • लोकसभा की कार्यवाही शुरू

 

बता दें कि 545 सदस्यों वाली लोकसभा में मौजूदा समय में 532 सांसद हैं। यानी बीजेपी को बहुमत हासिल करने के लिए महज 267 सांसद चाहिए। लोकसभा अध्यक्ष को हटाकर बीजेपी के पास अभी 273 सदस्य हैं।

मोदी सरकार के साथ कौन

अकाली दल- बीजेपी की सहयोगी अकाली दल मोदी सरकार के साथ है. अकाली दल के 4 सांसद हैं।

एलजेपी- केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की पार्टी एलजेपी सरकार के साथ. एलजेपी के 6 सांसद हैं।

जेडीयू- बीजेपी की सहयोगी पार्टी जेडीयू अविश्वास प्रस्ताव पर सरकार के साथ. जेडीयू के 2 सांसद।

अपना दल- केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल की पार्टी अपना दल सरकार के साथ. अपना दल के 2 सांसद।

आरएलएसपी – केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा मोदी सरकार के साथ हैं. मौजूदा समय में उनकी पार्टी के 3 सांसद हैं।

अन्य दल- एनडीए के पूर्वोत्तर के कई क्षेत्रीय दल हैं जिनके 6 सांसद हैं. वे सभी मोदी सरकार के साथ हैं।

मोदी के खिलाफ ये दल

कांग्रेस- विपक्ष में सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस हैं. अविश्वास प्रस्ताव पर सरकार के खिलाफ वोटिंग करेगी। कांग्रेस के 48 सांसद है।

टीडीपी- मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने वाली टीडीपी के 16 सांसद हैं।

आम आदमी पार्टी- दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की पार्टी सरकार के खिलाफ है। आप के 4 सांसद हैं।

सीपीएम- मोदी सरकार के खिलाफ सीपीएम वोटिंग करेगी. सीपीएम के 9 सांसद हैं।

सपा- अखिलेश यादव के नेतृत्व वाली पार्टी सपा सरकार के खिलाफ रहेगी. सपा के 7 सांसद हैं।

इन दलों के फैसले पर होगी नजर

शिवसेना- बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने अपने पत्ते नहीं खोले हैं. मौजूदा समय में 18 सांसद हैं।

एआईएडीएमके- संसद में तीसरी सबसे बड़ी पार्टी एआईएडीएमके ने वोटिंग के दौरान सदन से बाहर रहने का फैसला किया है। मौजूदा समय में 37 सांसद हैं।

टीआरएस- अविश्वास प्रस्ताव को लेकर टीआरएस ने अभी कोई फैसला नहीं लिया है। मौजूदा समय में टीआरएस के 11 सांसद हैं।

बीजेडी- नवीन पटनायक की पार्टी बीजेडी के पास 20 सांसद हैं और पार्टी ने अपने सांसदों को संसद में उपस्थित रहने के लिए व्हिप जारी किया है। वोटिंग के दौरान क्या करेंगे इसका फैसला नहीं हो पाया है।

टीएमसी- ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली टीएमसी का निर्णय सामने नहीं आया है। टीएमसी के 34 सांसद हैं।

एनसीपी- शरद पवार की पार्टी एनसीपी के 7 सदस्य हैं।

एयूडीएफ- असम की पार्टी एयूडीएफ के 3 सांसद हैं और पार्टी ने अभी फैसला नहीं लिया है।

आरजेडी – यूपीए की सहयोगी पार्टी आरजेडी ने अभी फैसला नहीं किया है। आरजेडी के 4 सांसद हैं। हालांकि आरजेडी मोदी सरकार के खिलाफ लगातार अभियान चलाती रही है।