कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने जीएसटी के क्रियान्वयन में कथित खामियों के लेकर आज सरकार को घेरा और सवाल किया कि इस महत्वपूर्ण विषय पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली और वित्त मंत्रालय का प्रभार देख रहे पीयूष गोयल चुप क्यों हैं।चिदंबरम ने यह भी पूछा कि क्या सरकार उन लाखों व्यापारियों और निर्यातकों की पीड़ा से अवगत है जो अपना पैसा फंसे होने से परेशान हैं?

उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘अगर जीएसटी ईमानदारी की जीत और ईमानदारी का जश्न है तो भाजपा ने इसका पहले विरोध क्यों किया था और पांच साल तक इसके क्रियान्वयन को अवरुद्ध क्यों कर रखा था?’ पूर्व वित्त मंत्री ने सवाल किया, ‘जीएसटी के क्रियान्वयन में आई कई खामियों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, वित्त मंत्री और कार्यवाहक वित्त मंत्री क्यों नहीं बोल रहे?

12 महीने बाद भी जीएसटी रिटर्न फॉर्म -2 और जीएसटी रिटर्न फॉर्म -3 को अधिसूचित क्यों नहीं किया?’ चिदंबरम ने कहा, ‘क्या सरकार उन लाखों व्यापारियों और निर्यातकों की पीड़ा से अवगत है जो अपना पैसा फंसे होने और जल्द वापस नहीं मिलने से परेशान हैं?’

24X7 नई खबरों से अवगत रहने के लिए यहां क्लिक करें।