मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज लखनऊ में गोमती नदी सफाई के महाअभियान का शुभारंभ किया। इस महाअभियान की शुरुआत करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा सफाई का शपथ लेना ही सबसे बड़ा संकल्प है जिसे पूरा करने के लिए जन भागीदारी जरूरी है। इस महाअभियान की शुरुआत के लिए योगी खुद गोमती नदी पहुंचे और इस अभियान को हरी झंडी दिखाई।

रविवार को झूले लाल वाटिका स्थित गोमती नदी के किनारे लगे जल कुंभी को हटाकर सीएम ने इस अभियान की शुरुआत की। इस महा सफाई अभियान का नेतृत्व जिला अधिकारी कौशल राज शर्मा ने किया। इस महाअभियान में तमाम समाज सेवी संगठन, स्कूली छात्र छात्राओं ने बढ़चढ़ का हिस्सा लिया। इस अभियान में न्याय मंत्री ब्रजेश पाठक, गोपाल जी टंडन के अलावा मेयर संयुक्ता भाटिया मौजूद रही।

बता दें कि इस सफाई कैंपेन के तहत लखनऊ के 7 किलोमीटर लम्बे स्ट्रेच को कवर किया जाएगा, जिमसें गोमती के किनारे फैले कचरे, पॉलीथीन और कबाड़े को हटाकर अलग किया जाएगा। इसके बाद इस कूड़े को सिंचाई विभाग हटाएगा। महाअभियान की शुरुआत करते हुए योगी ने कहा कि महात्मा गांधी ने सफाई को लेकर सपना देखा था जिसे आज हमें साकार करना है।

इस दौरान सीएम योगी ने लखनऊ की जनता को स्वच्छता की शपथ दिलाई और गोमती में गंदगी न फैलाने का आग्रह किया। बता दें कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने गंदगी और जलकुंभी देखकर दुख जताया था, जिसके बाद महा अभियान चलाने का निर्णय लिया गया, गोमती स्वच्छ होने तक अभियान जारी रहेगा।

देश की हर छोटी-बड़ी खबर जानने के लिए पढ़े पंजाब केसरी अख़बार।