BREAKING NEWS

राहुल गांधी बोले- मेरा रुख आज भी वही, राफेल सौदे में चोरी हुई◾बिहार में चमकी बुखार से मरने वालों की बढ़ी संख्या, अब तक 135 मासूमों की मौत◾कस्टोडियल डेथ केस : बर्खास्त आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट को उम्रकैद◾सरकार मजबूत, सुरक्षित और समावेशी भारत बनाने की दिशा में आगे बढ़ रही है : राष्ट्रपति कोविंद ◾दाऊद से पूछताछ कर चुके अधिकारी का खुलासा, 'डॉन' ने कुबूल कर लिया था अपराध ◾लखनऊ में बड़ा हादसा : 29 बारातियों से भरा वाहन नहर में गिरा, 7 बच्चे लापता◾तीन दिन बाद फिर घटे डीजल के दाम, पेट्रोल स्थिर !◾PM मोदी पांचवें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए कल पहुंचेंगे रांची ◾कांग्रेस तथा कुछ अन्य विपक्षी दल नहीं हुए बैठक में शामिल◾AAP ने विधानसभा अध्यक्ष से की BJP में शामिल हुए अपने 2 विधायकों को अयोग्य ठहराने की मांग ◾एक साथ चुनाव कराने पर विचार करने के लिए समिति गठित करेंगे प्रधानमंत्री : सरकार ◾AICC ने कर्नाटक कांग्रेस की वर्तमान कमेटी को भंग करने का किया फैसला - के सी वेणुगोपाल ◾मुखर्जी नगर हमला मामला : केजरीवाल ने उच्च न्यायालय की टिप्पणी का किया स्वागत ◾‘एक राष्ट्र, एक चुनाव’ का ज्यादातर पार्टियों ने किया समर्थन, वाम दलों और ओवैसी ने किया विरोध ◾मुखर्जी नगर मामले में उच्च न्यायालय ने कहा, दिल्ली पुलिस का हमला बर्बरता का उदाहरण ◾सनी देओल का चुनावी खर्च 70 लाख रूपये की सीमा से ‘ज्यादा’, नोटिस जारी◾‘एक राष्ट्र, एक चुनाव’ पर समिति बनाएंगे PM मोदी : राजनाथ सिंह◾Top 20 News - 19 June : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾बच्चों की मौत मामला , हर्षवर्धन ने बिहार में 5 चिकित्सा टीमें भेजी ◾बिहार में AES से मरने वाले बच्चों की संख्या बढ़ कर 115 हुई ◾

Uncategorized

अरुण जेटली हैं सॉफ्ट टिशू कैंसर से ग्रसित, जानिए इस बीमारी के बारे में

इस वक्त केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली का स्वास्थ ठीक न होने को लेकर मीडिया में कई तरह-तरह की खबरें सामने आ रही हैं। जिसे पीआईबी के प्रधान महानिदेशक और केंद्र सरकार के प्रवक्ता ने पूरी तरह से गलत बता दिया है। वैसे सूत्रों की मानें तो जेटली काफी ज्यादा कमजोर हो गए हैं। इतना ही नहीं पिछले हफ्तेही जेटली को एम्स में भी भर्ती कराया गया था जहां उनकी जांच हुई और उनका इलाज किया गया। 

अरूण जेटली किडनी के अलावा भी सॉफ्ट टिशू कैंसर से पीडि़त हैं

अरूण जेटली का पिछले साल मई में किडनी प्रत्यारोपण हुआ था। अब किडनी संबंधी बीमारी से ग्रसित जेटली कैंसर से भी जूझ रहे हैं। उनके बाएं पैर में सॉफ्ट टिशू कैंसर हो गया है जिसकी सर्जरी करने के लिए जेटली इस साल जनवरी में अमेरिका भी गए थे। फिलहाल वह कीमो के दौर से बाहर आने की कोशिश कर रहे हैं। तो आइए आपको बताते हैं कि आखिरकार क्या हैं ये सॉफ्ट टिशू कैंसर...

सभी सॉफ्ट टिशू कैंसरस नहीं होते हैं

बता दें कि वैसे तो हम सभी की बॉडी में कई तरह के सॉफ्ट टिशू ट्यूमर पाए जाते हैं,लेकिन सभी कैंसरस नहीं होते हैं। सॉफ्ट टिशू में कई मामूली से ट्यूमर भी होते हैं। जिसका मतलब कैंसर नहीं होता है और वह शरीर के दूसरे हिस्सों में भी नहीं फैल सकते हैं। लेकिन इस बीमारी के साथ जब सार्कोमा शब्द जुड़ जाता है तो इसका अर्थ होता है कि उस ट्यूमर में कैंसर धीरे-धीरे विकसित हो रहा है जो कि घातक है। 

सार्कोमा  हाथ या पैर की हड्डी या मसल्स में शुरू होता है 

एक तरह का कैंसर ही होता है सार्कोमा। जिसकी शुरूआत हड्डी या फिर मांसपेशियों के टिशू से होती है।  सॉफ्ट टिशू और बोन सार्कोमा मुख्य तरह का सार्कोमा होता है। सॉफ्ट टिशू सार्कोमा,फैट,मसल्स,नव्र्स,फाइबर टिश्यू,रक्त धमनियां या फिर डीप स्किन टिशू में पैदा होता है। वैसे देखा जाए तो ये शरीर के किसी भी हिस्से में पाए जा सकते हैं लेकिन सबसे पहले सॉफ्ट टिशू कैंसर की शुरूआत हाथ या फिर पैरों से ही होती है। सॉफ्ट टिशू सार्कोमा 50 से भी ज्यादा अलग-अलग तरीके का होता है। 

कुछ सामान्य लक्षण

-बॉडी में किसी भी हिस्से में कोई नई गांठ हो रही हो या फिर कोई पुरानी गांठ जो बढ़ रही हो।
-पेट का दर्द जो हर दिन बढ़ता जा रहा हो। 
-स्टूल या वॉमिटिंग के दौरान खूना आ रहा हो।