BREAKING NEWS

मोदी ने जेटली को दी श्रद्धांजलि, सत्ता में आने के बाद गरीबों का कल्याण किया : प्रधानमंत्री मोदी◾जेटली के आवास पर तीन घंटे से अधिक समय तक रुके रहे अमित शाह ◾भाजपा को हर कठिनाई से उबारने वाले शख्स थे अरुण जेटली◾राहुल और अन्य विपक्षी नेता श्रीनगर हवाईअड्डे पर रोके गये, सभी को भेजा वापिस ◾अरूण जेटली का पार्थिव शरीर उनके आवास पर लाया गया, भाजपा और विपक्षी नेताओं ने दी श्रद्धांजलि ◾वरिष्ठ नेता अरुण जेटली के निधन पर प्रधानमंत्री ने कहा : मैंने मूल्यवान मित्र खो दिया ◾क्रिेकेटरों ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरूण जेटली के निधन पर शोक व्यक्त किया ◾पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली का निधन : राजनीतिक खेमे में दुख की लहर◾प्रधानमंत्री मोदी द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत बनाने के लिए UAE पहुंचे ◾बिहार के विवादास्पद विधायक अनंत सिंह ने दिल्ली की अदालत में आत्मसमर्पण किया ◾सत्य और न्याय की स्थापना के लिए हुआ श्रीकृष्ण का अवतार : योगी◾अर्थव्यवस्था की रफ्तार बढ़ाने के लिए कई उपायों की घोषणा, एफपीआई पर ऊंचा कर अधिभार वापस ◾आईएनएक्स मीडिया मामला : चिदम्बरम ने उच्चतम न्यायालय में नयी अर्जी लगायी ◾विपक्ष के 9 नेताओं के साथ राहुल गांधी कल करेंगे कश्मीर का दौरा ◾TOP 20 NEWS 23 August : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾अर्थव्यवस्था की बिगड़ी हालत पर निर्मला सीतारमण बोली- भारत की आर्थिक स्थिति बेहतर◾सरकार के आर्थिक सलाहकारों ने भी माना कि संकट में है अर्थव्यवस्था : राहुल गांधी◾पेरिस में PM मोदी का संबोधन, बोले-हिंदुस्तान में अब टेंपरेरी के लिए व्यवस्था नहीं◾ईडी मामले में चिदंबरम को मिली राहत, 26 अगस्त तक नहीं होगी गिरफ्तारी◾एफएटीएफ के एशिया प्रशांत समूह ने पाकिस्तान को काली सूची में डाला◾

Uncategorized

अरुण जेटली हैं सॉफ्ट टिशू कैंसर से ग्रसित, जानिए इस बीमारी के बारे में

इस वक्त केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली का स्वास्थ ठीक न होने को लेकर मीडिया में कई तरह-तरह की खबरें सामने आ रही हैं। जिसे पीआईबी के प्रधान महानिदेशक और केंद्र सरकार के प्रवक्ता ने पूरी तरह से गलत बता दिया है। वैसे सूत्रों की मानें तो जेटली काफी ज्यादा कमजोर हो गए हैं। इतना ही नहीं पिछले हफ्तेही जेटली को एम्स में भी भर्ती कराया गया था जहां उनकी जांच हुई और उनका इलाज किया गया। 

अरूण जेटली किडनी के अलावा भी सॉफ्ट टिशू कैंसर से पीडि़त हैं

अरूण जेटली का पिछले साल मई में किडनी प्रत्यारोपण हुआ था। अब किडनी संबंधी बीमारी से ग्रसित जेटली कैंसर से भी जूझ रहे हैं। उनके बाएं पैर में सॉफ्ट टिशू कैंसर हो गया है जिसकी सर्जरी करने के लिए जेटली इस साल जनवरी में अमेरिका भी गए थे। फिलहाल वह कीमो के दौर से बाहर आने की कोशिश कर रहे हैं। तो आइए आपको बताते हैं कि आखिरकार क्या हैं ये सॉफ्ट टिशू कैंसर...

सभी सॉफ्ट टिशू कैंसरस नहीं होते हैं

बता दें कि वैसे तो हम सभी की बॉडी में कई तरह के सॉफ्ट टिशू ट्यूमर पाए जाते हैं,लेकिन सभी कैंसरस नहीं होते हैं। सॉफ्ट टिशू में कई मामूली से ट्यूमर भी होते हैं। जिसका मतलब कैंसर नहीं होता है और वह शरीर के दूसरे हिस्सों में भी नहीं फैल सकते हैं। लेकिन इस बीमारी के साथ जब सार्कोमा शब्द जुड़ जाता है तो इसका अर्थ होता है कि उस ट्यूमर में कैंसर धीरे-धीरे विकसित हो रहा है जो कि घातक है। 

सार्कोमा  हाथ या पैर की हड्डी या मसल्स में शुरू होता है 

एक तरह का कैंसर ही होता है सार्कोमा। जिसकी शुरूआत हड्डी या फिर मांसपेशियों के टिशू से होती है।  सॉफ्ट टिशू और बोन सार्कोमा मुख्य तरह का सार्कोमा होता है। सॉफ्ट टिशू सार्कोमा,फैट,मसल्स,नव्र्स,फाइबर टिश्यू,रक्त धमनियां या फिर डीप स्किन टिशू में पैदा होता है। वैसे देखा जाए तो ये शरीर के किसी भी हिस्से में पाए जा सकते हैं लेकिन सबसे पहले सॉफ्ट टिशू कैंसर की शुरूआत हाथ या फिर पैरों से ही होती है। सॉफ्ट टिशू सार्कोमा 50 से भी ज्यादा अलग-अलग तरीके का होता है। 

कुछ सामान्य लक्षण

-बॉडी में किसी भी हिस्से में कोई नई गांठ हो रही हो या फिर कोई पुरानी गांठ जो बढ़ रही हो।

-पेट का दर्द जो हर दिन बढ़ता जा रहा हो। 

-स्टूल या वॉमिटिंग के दौरान खूना आ रहा हो।