देश के बड़े वाणिज्यिक फर्मो के साथ द्विपक्षीय संबंध तेजी से बढ़ेंगे : नरेंद्र मोदी


एमस्टरडम, नीदरलैंड में आर्थिक विकास के क्षेत्र में भारत का स्वाभाविक साझेदार बताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि देश के बड़े वाणिज्यिक फर्मो के साथ द्विपक्षीय संबंध तेजी से बढ़ेंगे। मोदी और डच समकक्ष मार्क रूथे के बीच द्विपक्षीय वार्ता के बाद दोनों देशों ने सामाजिक सुरक्षा, जल संरक्षण और सांस्कृतिक सहयोग के तीन सहमतिपत्रों पर हस्ताक्षर किया। इस वर्ष दोनों देश भारत-नीदरलैंड के बीच राजनीतिक संबंधों की 40वीं स्थापना वर्ष मना रहे हैं वार्ता के दौरान दोनों नेताओं ने जलवायु परिवर्तन समझौता और संवहनीय ऊर्जा विकसित करने के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने को लेकर प्रतिबद्धता जतायी।

                                                                              source

दोनों नेताओं के बीच वार्ता से पहले, मोदी ने मिसाइल टेक्नोलॉजी कंट्रोल रेजीम (एमटीसीआर) में भारत की सदस्यता के लिए समर्थन करने को लेकर यूरोपीय देश को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा, आपके समर्थन के कारण ही भारत को एमटीसीआर की सदस्यता मिली है। भारत बतौर पूर्ण सदस्य पिछले वर्ष एमटीसीआर में शामिल हुआ। मोदी ने कहा कि नीदरलैंड दुनिया में पांचवां सबसे बड़ा निवेश साझेदार है और पिछले तीन वर्षो में यह भारत के लिए प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का तीसरा सबसे बड़ा स्रोत बनकर ऊभरा है। उन्होंने कहा, भारत और नीदरलैंड के बीच संबंध बहुत पुराने हैं। हमारे द्विपक्षीय संबंध बहुत मजबूत हैं।प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत और नीदरलैंड के बीच संबंध करीब एक सदी पुराना है और दोनों देश इसे मजबूत बनाने की दिशा में काम करते रहेंगे।

                                                                       source

संयुक्तरूप से जारी किये गए एक बयान में डच प्रधानमंत्री रूथे ने कहा कि वैश्विक शक्ति के रूप में भारत का ऊभरना राजनीतिक और आर्थिक दोनों दृष्टिकोण से स्वागत योज्ञ है। उन्होंने कहा, राजनीतिक इसलिए क्योंकि हम विधि और सुरक्षा के नियमों का सम्मान करते हैं। उन्होंने सतत संवहनीय ऊर्जा और पेरिस जलवायु समझौते के प्रति भारत की प्रतिबद्धता के लिए उसकी प्रशंसा की। रूथे ने स्वच्छ भारत और मेक इन इंडिया जैसे कदमों के लिए मोदी की प्रशंसा की। उन्होंने कहा, इन लक्ष्यों की प्राप्ति में भारत की मदद करने वाले प्रमुख सहयोगियों में नीदरलैंड भी है। उन्होंने कहा कि यूरोप भारत का सबसे बड़ा वाणिज्यिक साझेदार है और भारत के निर्यात का 20 प्रतिशत हिस्सा नीदरलैंड होकर ही जाता है।

                                                                            source

पुर्तगाल, अमेरिका और नीदरलैंड की यात्रा शुरू करने से पहले मोदी ने कहा था, मैं प्रधानमंत्री रूथे से मिलने और द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा करने को लेकर उत्सुक हूं। मैं आतंकवाद-निरोध और जलवायु परिवर्तन सहित विभिन्न वैश्विक मुद्दों पर प्रधानमंत्री रूथे के साथ विचारों का आदान-प्रदान करूंगा। इस यात्रा के दौरान मोदी यहां की बड़ी कंपनियों के सीईओ से भी मिलेंगे। प्रधानमंत्री रूथे ने कहा, ऐसे में, भारत के लिए हम यूरोप में प्रवेश का द्वार हैं। मोदी तीन देशों की यात्रा के अंतिम चरण में आज यहां पहुंचे हैं। अमेरिका यात्रा के बाद नीदरलैंड की राजधानी पहुंचने के बाद मोदी ने ट्वीट किया था, नीदरलैंड पहुंच गया हूं। यह बेहद महत्वपूर्ण यात्रा है, जो मूल्यवान मित्र के साथ संबंधों को पक्का बनाएगी। शिपोल हवाईअड्डे पर नीदरलैंड के विदेश मंत्री बर्त कोएंडर्स ने मोदी का स्वागत किया। अपनी एक दिवसीय यात्रा के दौरान मोदी यहां के राजा विलेम एलेक्जेंडर और रानी मैक्सिमा से मिलेंगे।

                                                                            source