मजदूरों का शोषण रोका जाएगा


हरिद्वार: होटलों, ढाबों व प्राइवेट फैक्ट्रीयों में असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को संगठित करने के उद्देश्य से उत्तराखण्ड श्रमिक कल्याण परिषद का गठन सिडकुल स्थित कार्यालय पर किया गया, जिसमें सिडकुल के श्रमिक होटल कर्मचारी घर खाता मजदूर, घरों में बर्तन मांझने वाली महिलायें, लघु उद्योगों में मजदूरी करने वाले श्रमिकों को संगठित करने के उद्देश्य से बैठक आयोजित की गई जिसमें सर्वसम्मति से श्रमिक नेता संजय को निर्विरोध अध्यक्ष चुना गया। वहीं सचिव विवेक त्यागी, गुलशन कुमार, कोषाध्यक्ष जितेन्द्र सोनेजा, उपाध्यक्ष अश्वनी श्रीवास्तव, मनोज कुमार, संगठन सचिव वेदपाल सिंह चौहान, सदस्य तुमर सिंह, नन्दराम बिष्ट, पंकज पाल, सर्वेश राणा, जगत सिंह पैन्यूली, गोपाल सिंह आदि को चुना गया।

इस अवसर पर अध्यक्ष ने बताया कि उत्तराखण्ड में औद्योगिक क्षेत्र के लघु उद्योगों में व होटल, ढाबों, ऑफिस व दुकानों पर रोज दिन की मजदूरी करने वाले अंसगठित क्षेत्र के मजदूरों को संगठित करना परिषद का उद्देश्य हैं। उन्होंने कहा कि आये दिन औद्योगिक क्षेत्रों में महिला मजदूरों से 12-12 घंटे की डियूटी कराई जा रही है और उनके स्वास्थ्य की अनदेखी करते हुए समय पर व उचित वेतन नहीं दिया जा रहा है जबकि राज्य सरकार द्वारा 30 प्रतिशत की चिकित्सा सुविधा की घोषणा पहले ही की जा चुकी है। उन्होंने यह भी कहा कि औद्योगिक क्षेत्रों में असंगठित क्षेत्र के मजदूरों को तकनीकी शिक्षा का अभाव है जिसे उच्च स्तर पर ले जाना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक क्षेत्र में जाकर असंगठित क्षेत्र में मजदूरों को उनके अधिकारों को दिलाने लिए जन जागरण किये जाएंगे।