मोदी और ट्रम्प के बीच होगी अहम् मुद्दों पर वार्ता


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने विदेशी दौरे के दूसरे पड़ाव पर कल अमेरिका पहुंच गए जहां वह अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात करेंगे। माना जा रहा है कि पीएम मोदी ट्रंप से मुलाकात के दौरान वीजा के मुद्दे को उठा सकते हैं, दोनों नेताओं की यह पहली मुलाकात है, जिस पर पाकिस्तान और चीन समेत दुनिया के देश नजर हैं। मोदी और ट्रंप के बीच आतंकवाद, एच1बी वीजा, चीन के वन बेल्ट वन रोड परियोजना, दक्षिण चीन सागर समेत तमाम मुद्दों पर चर्चा हो सकती है।

source

इससे पहले पीएम मोदी और पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के बीच बेहतरीन दोस्ती देखने को मिली थी। दोनों नेताओं ने एक-दूसरे के देशों का कई बार दौरा भी किया। ओबामा प्रशासन के दौरान पीएम मोदी खुद चार बार अमेरिकी दौरे पर गए। यह उनका पांचवां अमेरिकी दौरा हैं, लेकिन ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद वह पहली बार अमेरिका पहुंचे हैं।

source

वैसे तो अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने मोदी के नक्शेकदम पर चलकर चुनाव जीता था। उन्होंने मोदी के नारे तक की नकल की थी, लेकिन एच1बी वीजा और जलवायु परिवर्तन पर फैसले ने दोनों देशों को असहज बना दिया है। इसके अलावा मेक इन इंडिया और फर्स्ट अमेरिका नीतियों के बीच टकराव से निवेशकों की चिंता बढ़ी है। निवेशकों के लिए अमेरिका की अपेक्षा भारत बेहतरीन बाजार है। हालांकि दोनों देश आपसी हित के लिए सामंजस्य बैठाने की पूरी कोशिश करेंगे। ऐसे में दोनों नेताओं के बीच इन मुद्दों पर बातचीत हो सकती है—

source

भारत की ओर से उठाए जाने वाले मुद्दे
1. एच1बी वीजा को सरल बनाना
2. वन बेल्ट वन रोड परियोजना के खिलाफ विशेष रणनीति तैयार हो
3. आतंकवाद के खिलाफ संयुक्त कार्रवाई हो
4. पाकिस्तान को आर्थिक और सैन्य मदद बंद हो
5. अमेरिका में भारतीयों की सुरक्षा बढ़े
6. अमेरिका जलवायु परिवर्तन समझौते का पूरा पालन करे

source

अमेरिका की ओर से उठाए जाने वाले मुद्दे
1. दक्षिण चीन सागर विवाद में चीन के खिलाफ भारत का सहयोग
2. चीन की वन बेल्ट वन रोड परियोजना से निपटने को नई रणनीति बने
3. तालिबान आतंकियों से निपटने के खिलाफ लड़ाई में सहयोग मिले
4. कतर संकट समेत अन्य अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर भारत का सहयोग
5. जलवायु परिवर्तन समझौते में रियायत मिले

source

भारत और अमेरिका लंबे समय से इस मुद्दे पर एक रहे हैं, अगर हम आतंकवाद, वैश्विक एवं क्षेत्रीय सुरक्षा, मुक्त व्यापार और दक्षिण चीन सागर विवाद के मुद्दे पर बात करें, तो दोनों देशों के हित समान हैं। लेकिन फर्स्ट अमेरिका और मेक इन इंडिया के बीच टकराव जरूर देखने को मिल सकता है।