BREAKING NEWS

हिंसा के बाद किसान आंदोलन में पड़ी दरार, दो संगठनों ने खुद को किया अलग◾26 जनवरी हिंसा: राकेश टिकैत, अन्य किसान नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज◾गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली में कानून-व्यवस्था की समीक्षा की ◾संयुक्त किसान मोर्चा की सफाई - असामाजिक तत्वों ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनों को नष्ट करने की कोशिश की◾दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर परेड में हिंसा के संबंध 200 लोगों को हिरासत में लिया, पूछताछ जारी ◾BCCI प्रमुख सौरव गांगुली को सीने में दर्द, अपोलो हॉस्पिटल में कराया गया एडमिट ◾नेपाल में कोविड टीकाकरण का पहला चरण शुरू, भारत ने तोहफे में दी है 10 लाख वैक्सीन डोज◾ किसान ट्रैक्टर परेड: गणतंत्र दिवस पर हिंसा की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल◾दो दिवसीय दौरे पर केरल पहुंचे राहुल, मलप्पुरम में गर्ल्स स्कूल के भवन का किया उद्घाटन ◾किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश हुई कामयाब : हन्नान मोल्लाह◾किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान भड़की हिंसा में 300 पुलिसकर्मी हुए घायल, क्राइम ब्रांच करेगी जांच◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : संयुक्त किसान मोर्चा ने बुलाई बैठक, सभी पहलुओं पर होगी चर्चा ◾DND फ्लाईओवर पर लगा भारी जाम, लाल किला मेट्रो स्टेशन की एंट्री व एग्जिट बंद ◾Today's Corona Update : देश में पिछले 24 घंटे में 12 हजार नए केस, 137 मरीजों की हुई मौत ◾वीडियो वायरल होने के बाद बोले राकेश टिकैत-लाठी कोई हथियार नहीं◾विश्व में कोरोना का प्रकोप जारी, मरीजों का आंकड़ा 10 करोड़ से पार ◾किसानों की ट्रैक्टर परेड में बवाल, दिल्ली पुलिस ने हिंसा के मामले में 22 FIR दर्ज की ◾TOP 5 NEWS 27 DECEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾राकांपा अध्यक्ष शरद पवार बोले- दिल्ली में जो कुछ हुआ, उसका समर्थन नहीं किया जा सकता ◾संयुक्त किसान मोर्चा ने की दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के दौरान भड़की हिंसा की निंदा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

अब भारत में किसी भी मस्जिद को हाथ नहीं लगाया जायेगा, विनय कटियार ने कही बड़ी बात

अयोध्या में 6 दिसंबर, 1992 को बाबरी ढांचा विध्वंस हुआ था। एक रात पहले 5 दिसंबर 1992 को अयोध्या में रात दस बजे बजरंग दल के नेता और तत्कालीन सांसद विनय कटियार के घर पर डिनर रखा गया था। डिनर में पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी और दूसरे संघ के नेता पहुंचे थे।

 सीबीआई ने अपनी जांच में विनय कटियार का नाम शामिल किया और उनके ऊपर षडयंत्र का आरोप लगाया। कोर्ट ने सीबीआई की यह दलील नहीं मानी। विनय कटियार ने बताया कि उनके यहां सिर्फ प्रतीकात्मक कारसेवा को लेकर योजना बनी थी। मस्जिद गिराने जैसी किसी बात पर चर्चा नहीं हुई थी।

विनय कटियार ने बताया, 'आडवाणी रात को अयोध्या पहुंचे। वह जानकी महल में रुके थे। क्योंकि वह मेरे नेता थे, इसलिए मैंने उन्हें डिनर पर अपने घर में आमंत्रित किया। हम लोगों ने सांकेतिक कारसेवा को लेकर चर्चा की। यहां तक हम लोगों ने यह भी तय किया कि बाबरी मस्जिद के पास कोई कारसेवा नहीं होगी।'

विनय कटियार ने कहा कि बाबरी मस्जिद का ढांचा कांग्रेस ने गिराया ताकि यूपी में बीजेपी की सरकार को गिरा सकें। उन्होंने कहा, 'भविष्य में किसी भी मस्जिद को नहीं छुआ जाएगा। शांति बनाए रखें। बाबरी मस्जिद कांग्रेस ने गिराई थी और हमें आरोपी बना दिया गया। यह एक षडयंत्र था जो कांग्रेस ने किया था ताकि यूपी में हमारी सरकार गिरा सकें। हम ढांचे को कभी भी गिराना नहीं चाहते थे।'

पूर्व सांसद ने कहा, 'हमारे कारसेवक अनुशासित थे। वहां बड़ा षडयंत्र किया गया। अनजान अपराधी प्रवृत्ति के लोग वहां आए और उन्होंने ढांचे पर चढ़कर उसे गिरा दिया। हम लागों ने अपने कारसेवकों से कहा सरयू नदी से रेत लाने को कहा था। हमें नहीं पता चला कि कैसे वहां स्थितियां अनियंत्रित हो गईं।'

विनय कटियार ने कहा कि इस मामले में जांच होनी चाहिए ताकि बाबरी मस्जिद ढांचे को गिराने में कांग्रेस की भूमिका साफ हो सके। जांच से साफ हो जाएगी कि यूपी में कल्याण सिंह की सरकार गिराने के लिए षडयंत्र कांग्रेस ने किया था।

काशी और मथुरा के विवाद पर उन्होंने कहा, 'हम काशी या मथुरा के लिए कोई भी आंदोलन की भूमिका तैयार नहीं कर रहे हैं। हम संतों से इस विषय में बात करेंगे लेकिन हम बात करेंगे कि देश में अब कहीं भी मस्जिद न गिराई जाए। देश में शांति बरकरार रहे।'