BREAKING NEWS

संसद में नागरिकता विधेयक का पारित होना गांधी के विचारों पर जिन्ना के विचारों की होगी जीत : शशि थरूर◾अनाज मंडी हादसे के लिए दिल्ली सरकार और MCD जिम्मेदार: सुभाष चोपड़ा◾दिल्ली आग: PM मोदी ने की मृतक के परिवारों के लिए 2 लाख रुपये मुआवजे की घोषणा◾दिल्ली आग: दिल्ली पुलिस ने फैक्ट्री मालिक के खिलाफ दर्ज किया मामला◾दिल्ली आग : CM केजरीवाल ने मृतकों के परिवारों के लिए 10 लाख रुपये मुआवजे का किया ऐलान◾दिल्ली आग: अमित शाह ने घटना पर शोक किया व्यक्त, प्रभावित लोगों को तत्काल राहत मुहैया कराने का दिया निर्देश◾कानून व्यवस्था को लेकर कांग्रेस का मोदी पर वार, कहा- खुले आम घूम रहे हैं अपराधी, PM हैं ‘‘मौन’’ ◾दिल्ली: अनाज मंडी में एक मकान में लगी आग, 43 लोगों की मौत, 50 लोगों को सुरक्षित बाहर निकला गया ◾उन्नाव रेप पीड़िता के परिवार ने कहा- CM योगी के आने तक नहीं होगा अंतिम संस्कार, बहन ने की ये मांग◾दिल्ली: अनाज मंडी में लगी भीषण आग पर PM मोदी और मुख्यमंत्री केजरीवाल ने जताया दुख◾RSS प्रमुख मोहन भागवत बोले - गोसेवा करने वाले कैदियों की आपराधिक प्रवृत्ति में आई कमी◾देवेंद्र फडणवीस का दावा- अजित पवार ने सरकार बनाने के लिए मुझसे किया था संपर्क◾उन्नाव रेप पीड़िता का आज होगा अंतिम संस्कार, गांव में सुरक्षा के कड़े इंतजाम◾कहीं एनआरसी जैसा न हो सीएबी का हाल, आरएसएस बना रही रणनीति ◾झारखंड में रविवार को राजनाथ सिंह और स्मृति ईरानी की चुनाव सभाएं◾सोनिया ने रविवार को बुलाई संसदीय रणनीति समूह की बैठक, नागरिकता विधेयक पर होगी चर्चा ◾PM मोदी ने वैज्ञानिकों का कम लागत वाली प्रौद्योगिकियों के विकास का किया आह्वान ◾NIA ने आईएसआईएस 2 संदिग्धों के खिलाफ आरोप पत्र किया दायर◾उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता ने मरने से पहले कहा-'मुझे बचाओ, मैं मरना नहीं चाहतीं' ◾उन्नाव बलात्कार पीड़िता युवती का शव उसके गांव लाया गया ◾

उत्तर प्रदेश

दारुल उलूम के बाद जमीयत भी अयोध्या फैसले पर पुनर्विचार याचिका के पक्ष में नहीं

 ram mandir issue

मौलाना महमूद मदनी की अगुवाई वाली जमीयत उलमा-ए-हिंद ने अयोध्या में राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के पक्ष में आए उच्चतम न्यायालय के फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दाखिल किए जाने का समर्थन नहीं किया है। 

जमीयत के शीर्ष नेताओं के बैठक के बाद देवबंद में आज संवाददाताओं को बताया कि भले ही यह फैसला किसी के गले नहीं उतरता है, लेकिन हमारा संगठन पुनर्विचार याचिका दाखिल किए जाने का समर्थक नहीं है। हम इसे फिजूल की बात मानते हैं। मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की बैठक में भी मौलाना महमूद मदनी ने अपना यही रूख अपनाया था। 

दारूल उलूम देवबदं भी इस मामले में पुनर्विचार याचिका दाखिल किए जाने के पक्ष में नहीं है। मोहत्मिम अबुल कासिम नौमानी का कहना था कि दारूल उलूम इस बावत अपना कोई निर्णय नहीं लेगा। इसके उलट जमीयत उलमा-ए-हिंद के दूसरे धड़ के अध्यक्ष और दारूल उलूम देवबंद हदीस के उस्ताद मौलाना अरशद मदनी का रूख पुनर्विचार याचिका दाखिल किए जाने के पक्ष में है। अरशद मदनी का यह मानना है कि पुनर्विचार याचिका सौफीदी नामंजूर हो जाएगी, लेकिन मुस्लिमों के कुछ संगठन और लोग पुनर्विचार याचिका दाखिल करना चाहते हैं तो वह की जानी चाहिए। 

गौरतलब है कि दारूल उलूम देवबंद और जमीयत उलमा ए हिंद राष्ट्र की मुख्यधारा में शामिल हैं और उनकी सोच, विचारधारा बहुत उदार है। मौलाना अरशद मदनी हाल के कुछ दिनों में संघ प्रमुख मोहन भागवत से राष्ट्रीय मुद्दों को लेकर दो बार मुलाकात कर चुके हैं। महमूद मदनी ने फैसले के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद बुलाई गई बैठक में शामिल हुए थे। मौलाना महमूद मदनी अरशद मदनी के सगे भतीजे हैं।