BREAKING NEWS

देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के नए मामले 10 हजार से कम, 137 लोगों ने गंवाई जान ◾कांग्रेस मुख्यालय में आज राहुल गांधी की प्रेस कॉन्फ्रेंस, कृषि कानूनों पर जारी करेंगे बुकलेट◾दुनियाभर में कोरोना का प्रकोप लगातार जारी, मरीजों का आंकड़ा 9.55 करोड़ तक पहुंचा◾TOP 5 NEWS 19 JANUARY : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾विदेशी आतंकियों की मौजूदगी से आतंकवाद विरोधी प्रयास हो रहे कमजोर : टी. एस. तिरुमूर्ति◾गुजरात : सूरत में सड़क किनारे सो रहे प्रवासी मजदूरों को ट्रक ने कुचला, 13 लोगों की मौत ◾शुभेंदु अधिकारी ने ममता के गढ़ में चुनाव लड़ने का किया ऐलान बोले- 50 हजार वोटों से हारेंगी, नहीं तो छोड़ दूंगा राजनीति ◾किसान संगठनों और सरकार के बीच दसवें दौर की वार्ता अब बुधवार को होगी◾‘तांडव’ की टीम ने बिना शर्त माफी मांगी, कहा-भावनाएं आहत करने का कोई इरादा नहीं ◾सुशासन सरकार में पुलिस दोषियों के बजाये निर्दोष को जेल भेजने का काम करती है :तेजस्वी ◾आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह को मिली जिंदा जलाकर मारने की धमकी ◾एम्स निदेशक की जनता से अपील - मामूली साइड इफेक्ट से मत डरें, वैक्सीन आपको मारेगी नहीं ◾SC की टिप्पणी के बाद बोले किसान संगठन - ट्रैक्टर रैली निकालना किसानों का संवैधानिक अधिकार है◾बढ़ते क्राइम को लेकर तेजस्वी ने राज्यपाल से की मुलाकात, कहा- बिहारियों की बलि मत दिजीए CM नीतीश ◾नंदीग्राम से विधानसभा चुनाव लड़ेंगी ममता बनर्जी, कहा- दल बदलने वालों की नहीं है चिंता ◾केंद्र ने माल्या प्रत्यर्पण मामले में दी SC को सूचना, कहा- ब्रिटेन ने डिटेल सांझा करने से किया इंकार ◾'तांडव' वेब सीरीज विवाद को लेकर लखनऊ से मुंबई रवाना हुई UP पुलिस की टीम◾भारतीय किसान यूनियन के प्रधान गुरनाम सिंह चढूनी को संयुक्त किसान मोर्चा ने किया सस्पेंड◾SC की टिप्पणी पर बोले राकेश टिकैत-हम झगड़ा नहीं, गण का उत्सव मनाएंगे◾ट्रैक्टर रैली पर बोला SC- दिल्ली में किसे एंट्री देनी है, यह तय करना पुलिस का काम, बुधवार को अगली सुनवाई◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

अखिलेश यादव बोले- भाजपा शासन में लोकतंत्र पर मंडरा रहे हैं खतरे के बादल

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री व समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) पर अभिव्यक्ति की आजादी को कुचलने का आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा शासन में लोकतंत्र पर खतरे के बादल मंडरा रहे हैं। अखिलेश ने शनिवार को यहां जारी बयान में कहा कि भाजपा के कारण लोकतंत्र पर खतरे के बादल मंडरा रहे हैं, शान्तिपूर्ण अहिसंक विरोध पर बर्बर लाठीचार्ज, न्याय के लिए आवाज उठाते युवाओं की गिरफ्तारी और अभिव्यक्ति की आजादी को कुचलने की भाजपा सरकार का कृत्य अमानवीय और अलोकतांत्रिक हैं।

उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के दौर में अर्थव्यवस्था में भारी गिरावट आई है। क्रयशक्ति घटने से बाजार में मंदी है। किसान, नौजवान आत्महत्या कर रहे हैं। लोगों की नौकरियां छूट गई है। आने वाले दिन और संकट के हो सकते हैं। पूरी व्यवस्था चरमरा गई है। अखिलेश ने कहा कि प्रदेश में अराजकता के हालात हैं। लूट, हत्या, अपहरण और बलात्कार की घटनाएं थम नहीं रही है। अपराधियों को कानून का खौफ नहीं है। भाजपा सरकार एक जिला, एक उत्पाद को बढ़वा देने की बात कहती है लेकिन हकीकत में हर जिला, जमकर अपराध का उसने नया मॉडल लांच कर दिया है।

उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार का शिक्षा, शिक्षकों और शिक्षार्थियों के प्रति दृष्टिकोण मानवीयता से रहित है। जेईई और नीट की परीक्षाएं विरोध के बावजूद करने पर आमादा भाजपा सरकार को बताना चाहिए कि इस परीक्षा के बाद किस तारीख से शिक्षण संस्थाएं खुलेंगी। कब चयन प्रक्रिया पूरी होगी, कब से कक्षाएं शुरू होंगी। उन्होंने राजभवन पर पार्टी के युवा संगठनों के प्रदर्शन पर पुलिस लाठीचार्ज की निंदा की। 

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि समाजवादी पार्टी में किसी भी गलत आदमी के लिए कोई स्थान नहीं हो सकता है, पार्टी में निष्ठावान कार्यकर्ता को अवसर और सम्मान मिलेगा। युवाओं ने आव्हान किया कि वे वर्ष 2022 में विधानसभा चुनाव की तैयारी के लिए बाइस में बाइसिकल का लक्ष्य बनाकर अभी से बूथस्तर तक मजबूती से समाजवादी सरकार की उपलब्धियों को पहुंचाएं। उन्होंने समाजवादी पार्टी का आव्हान तथा अगस्त क्रान्ति की समाजवादी दिशा पत्रकों को घर-घर तक प्रचारित करने को भी कहा।

अखिलेश ने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा पूर्व मंत्री एवं सांसद मोहम्मद आत्रम खां की सम्पत्ति और मोहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय के प्रति जो रवैया अपनाया जा रहा है वह द्वेषपूर्ण राजनीति को उजागर करता है। प्रदेश में जनता बेहाल है उसकी मुख्य समस्याओं से ध्यान हटाने के लिए ध्वस्तीकरण की कार्रवाई की जा रही है। चुन-चुनकर बहुत पहले से निर्मित इमारतों को ध्वस्त किया गया है। भाजपा समझती है कि कुछ मकानों-इमारतों को गिराने से जनसमस्याओं का समाधान हो जाएगा, यह भाजपा की ऐसी भूल है जो उसे बहुत मंहगी पड़गी।

उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार के अन्याय के कारण युवाओं के सामने संकट की स्थिति पैदा हुई है। युवा पीढ़ के लिए रोजगार नहीं है, शिक्षा संस्थानों में पढ़ई बंद है, कोरोना की वजह से आर्थिक तंगी भी है। नीट, जेईई के मुद्दों पर भाजपा के अड़यल रवैये से परीक्षार्थी सदमें में हैं। भाजपा सरकार को कोई चिंता नहीं है चाहे युवा पीढ़ को कितनी ही कीमत चुकानी पड़। नौजवानों को भाजपा अपने विरोधी के रूप में देखती है और उसकी आवाज को कुचलने को आमादा है।