BREAKING NEWS

Haryana: मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर बोले- विदेशी निवेशकों की पहली पसंद बन रहा है हरियाणा◾Mother Dairy hikes Today: मदर डेयर दूध के भी बढ़े दाम, दो रूपये लीटर की हुई बढ़ोतरी, कल से होगा लागू◾खनन से प्रभावित लोगों की भलाई के लिए बड़ा कदम उठाने जा रही है मोदी सरकार, जानिए पूरी जानकारी ◾ट्रंप की संपत्ति से जुड़ी जानकारी छिपा रहा न्याय विभाग, जांच में नुकसान होने का दिया हवाला ◾Rajasthan: गहलोत का सचिन पायलट पर कटाक्ष, कहा- जुमला बन गया है कार्यकर्ताओं का मान-सम्मान◾जम्मू-कश्मीरः सुरक्षाबलों की मौत पर राष्ट्रपति मुर्मू ने जताया दुख, घायलों के शीघ्र स्वस्थ्य होने की कामना की ◾Ratan Tata Invests : वरिष्ठ नागरिकों के सहयोग के लिए स्टार्टअप गुडफेलोज में किया निवेश◾कश्मीरी पंडित की हत्या पर उमर अब्दुल्ला सहित कई राजनेताओं ने जताया दुख, जानिए क्या कहा? ◾Amul Milk Price Hiked: देश में महंगाई का कहर! अमूल मिल्क के बढ़े दाम, इतने लीटर महंगा हुआ दूध◾राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने की मुलाकात ◾नीतीश को घेरने के लिए बीजेपी आलाकमान ने बुलाई बैठक, बिहार इकाई के प्रमुख नेता होंगे शामिल ◾WPI मुद्रास्फीति घटकर 13.93 फीसदी, खाद्य वस्तुओं सहित विनिर्मित उत्पादों की कीमतों में बड़ी गिरावट ◾WPI मुद्रास्फीति घटकर 13.93 फीसदी, खाद्य वस्तुओं सहित विनिर्मित उत्पादों की कीमतों में बड़ी गिरावट ◾मुम्बई में बारिश को लेकर मौसम विभाग का बड़ा अलर्ट, 24 घंटे के अंदर होगी झमाझम बारिश ◾Bihar Politics : नीतीश मंत्रिमंडल का हुआ विस्तार , तेज प्रताप समेत RJD से 16 मंत्री बने ◾गहलोत के अर्धसैनिक बलों के ट्रकों में 'अवैध धन' ले जानें वाले बयान पर बीजेपी का पलटवार, जानिए मामला◾NSE Phone Tapping Case : मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त की जमानत अर्जी पर ED को नोटिस जारी◾J-K News: जम्मू कश्मीर के पहलगाम में दर्दनाक हादसा, 39 जवानों की बस खाई में गिरी, 6 की मौत, जानें स्थिति ◾जम्मू-कश्मीर : आतंकियों ने दो कश्मीरी पंडित भाइयों पर बरसाई गोलियां, एक की मौत, एक घायल◾बिहार : नीतीश सरकार के मंत्रिमंडल के 31 विधायकों ने मंत्री पद की शपथ ली, कांग्रेस नेता भी शामिल ◾

इलाहाबाद HC ने सरकारी डॉक्टर को जमानत देने से किया इंकार, कहा- सभी समस्याओं की जड़ है भ्रष्टाचार

इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ पीठ ने एक सरकारी डॉक्टर को अग्रिम जमानत देने से इनकार करते हुए कहा कि भ्रष्टाचार हर प्रणाली में एक दीमक की तरह है और एक बार व्यवस्था में प्रवेश करने के बाद यह बढ़ता ही चला गया है। एक सरकारी डॉक्टर की अग्रिम जमानत को खारिज करते हुए न्यायमूर्ति कृष्ण पहल ने कहा, भ्रष्टाचार हर व्यवस्था में एक दीमक है। एक बार व्यवस्था में प्रवेश करने के बाद, यह बढ़ता ही जाता है। आज, यह बड़े पैमाने पर है और एक दिनचर्या बन गई है।

सभी समस्याओं का मूल कारण है 'भ्रष्टाचार' 

उन्होंने आगे कहा, भ्रष्टाचार सभी समस्याओं का मूल कारण है, जैसे गरीबी, बेरोजगारी, अशिक्षा, प्रदूषण, बाहरी खतरे, अविकसितता, असमानता और सामाजिक अशांति। अदालत ने कहा, खतरे को ध्यान में रखना होगा।अपराध समाज के खिलाफ है। अदालत को जांच एजेंसी के साथ-साथ समाज की वैध चिंताओं के साथ अभियुक्तों के मौलिक अधिकारों को संतुलित करना होगा।

राजीव गुप्ता ने अपनी पत्नी डॉ सुनीता गुप्ता, पूर्व वरिष्ठ मंडल चिकित्सा अधिकारी (डीएमओ), उत्तर रेलवे, चारबाग, लखनऊ की ओर से अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी। वह रेडियोलॉजी विभाग में कार्यरत थी।

राजीव गुप्ता किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी में ऑन्कोलॉजिस्ट हैं।

CBI ने आईपीसी और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत दर्ज किया मामला 

सीबीआई ने लखनऊ में डॉ सुनीता गुप्ता और उनके पति डॉ राजीव गुप्ता, प्रोफेसर, केजीएमयू, लखनऊ के खिलाफ आईपीसी और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की कई धाराओं के तहत मामला दर्ज किया था। प्राथमिकी में, सीबीआई ने आरोप लगाया था कि डॉ सुनीता गुप्ता के पास एक जनवरी 2009 से 12 जुलाई 2016 की अवधि के दौरान संपत्ति (करीब 1.80 करोड़ रुपये, उनकी आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक) थी।

CBI ने अग्रिम जमानत का किया विरोध 

सीबीआई ने 12 जुलाई 2016 को डॉ सुनीता गुप्ता के लखनऊ स्थित आवास से 1.59 करोड़ रुपये भी बरामद किए थे। अभियोजन पक्ष ने अदालत को बताया कि डॉ सुनीता गुप्ता आय के स्रोत को संतोषजनक ढंग से नहीं बता सकीं और उनके पति डॉ राजीव गुप्ता ने भी इस बेहिसाब संपत्ति को इकट्ठा करने में उनकी मदद की।सीबीआई की ओर से पेश हुए वकील अनुराग कुमार सिंह ने अग्रिम जमानत का विरोध किया।

HC ने डॉक्टरों द्वारा ली गई शपथ पर भी की टिप्पणी 

अदालत ने चिकित्सा पाठ्यक्रम पूरा करने के बाद दीक्षांत समारोह में डॉक्टरों द्वारा ली गई शपथ पर भी टिप्पणी की। चिकित्सक दीक्षांत समारोह के समय इंडियन मेडिकल एसोसिएशन द्वारा प्रदान की गई शपथ दिलाते हैं जो दुनिया भर में ली गई हिप्पोक्रेटिक शपथ का विस्तार है। शपथ केवल एक औपचारिकता नहीं है। इसे पालन किया जाना चाहिए।