BREAKING NEWS

'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾तिरंगे पर महबूबा मुफ्ती के बयान से नाखुश पीडीपी के तीन नेताओं ने पार्टी से दिया इस्तीफा, NC ने भी किया किनारा◾स्ट्रीट वेण्डर आत्मनिर्भर निधि योजना के तहत प्रधानमंत्री कल UP के लाभार्थियों से करेंगे बात ◾साक्षी महाराज ने फिर दिया विवादित बयान, कहा- अनुपात के हिसाब से हो कब्रिस्तान और श्मशान◾राजनाथ सिंह ने अमेरिकी रक्षा मंत्री के साथ की वार्ता, रक्षा तथा सामरिक संबंधों पर हुई चर्चा ◾बिहार चुनाव : प्रचार के आखिरी दिन तेजस्वी पहुंचे हसनपुर, तेजप्रताप के लिए मांगे वोट ◾जेपी नड्डा ने चिराग पर साधा निशाना - कुछ लोग NDA में सेंध लगाना चाहते हैं, कर रहे है षड्यंत्र ◾भारत में कोविड-19 संबंधी मृत्युदर 1.50 प्रतिशत, 108 दिन बाद 500 से कम मौत हुई◾CM नीतीश ने महुआ में RJD पर बोला हमला - कुछ लोगों की भ्रमित करने और ठगने की आदत होती है◾दिल्ली की वायु गुणवत्ता 'बहुत खराब', पराली जलाए जाने से दिल्लीवासियों पर कहर बरपाएगा प्रदूषण◾SC ने कोर्ट की निगरानी में CBI जांच की मांग वाली दिशा सालियान केस की याचिका को किया खारिज◾जेपी नड्डा का RJD पर तंज- नौकरी छीनने वाले आज कर रहे हैं नौकरी देने की बात ◾अनुराग कश्यप पर बलात्कार का आरोप लगाने वाली अभिनेत्री पायल घोष अठावले की पार्टी में हुईं शामिल ◾IPL-13 : KXIP vs KKR, प्लेऑफ की दौड़ में पंजाब को बने रहने के लिए बनानी होगी जीत में निरंतरता ◾पंजाब में पीएम मोदी का पुतला जलाने पर भड़के नड्डा, कहा- राहुल गांधी निर्देशित है यह ड्रामा◾महबूबा के बयान के खिलाफ लाल चौक पर तिरंगा फहराने की कोशिश, हिरासत में लिए गए BJP कार्यकर्ता◾कृषि बिल पर राहुल गांधी की नसीहत- गुस्साए किसानों की बात सुनें पीएम मोदी◾बिहार चुनाव में आलू और प्याज की एंट्री, 60 घोटालों के आरोप में तेजस्वी ने CM नीतीश को घेरा ◾Bihar Election : एक बार फिर नीतीश के खिलाफ हुए चिराग, बोले- CM हो या कोई अधिकारी, जेल भेजा जाएगा◾भीम आर्मी चीफ का दावा- मेरे काफिले पर चलाई गई गोलियां, पुलिस ने किया इनकार ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

सुन्नी वक्फ बोर्ड के फैसले से अयोध्या के संत व मुस्लिम पक्षकार खुश

राम जन्मभूमि पर सुप्रीम कोर्ट फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दायर न करने के सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के ऐलान के बाद से अयोध्या के संत और पक्षकार खुश नजर आ रहे हैं। 

राम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष एवं शीर्ष पीठ मणिरामदास जी की छावनी के महंत नृत्यगोपाल दास ने कहा, 'यह बहुत हर्ष का विषय है। सुन्नी वक्फ बोर्ड के फैसले का स्वागत किया जाना चाहिए। बोर्ड के रुख से यह स्पष्ट हो रहा है कि न केवल सुप्रीम कोर्ट, बल्कि पूरा देश राम मंदिर के हक में खड़ा हो रहा है।'

 

हनुमान गढ़ी के महंत राजूदास ने आईएएनएस से कहा, 'सुन्नी वक्फ बोर्ड का यह फैसला स्वागत योग्य है। वह भी राम मंदिर निर्माण में हमारा सहयोग कर रहे हैं। उनके लिए अयोध्या में चौरासी कोसी के बाहर चाहे जहां मस्जिद की जमीन मांगेंगे, दिल खोलकर सहयोग किया जाएगा।'

उन्होंने ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड द्वारा याचिका दायर किए जाने को नसमाझी करार दिया। 

वहीं, मुस्लिम पक्षकार मो़ इकबाल अंसारी ने कहा, 'सुन्नी वक्फ बोर्ड का फैसला निश्चित ही स्वागत योग्य है। हमें विवाद छोड़कर मुल्क की तरक्की के लिए आगे बढ़ना चाहिए। यह एक अच्छी पहल है।' 

रामवल्लभाकुंज के अधिकारी राजकुमारदास ने कहा, निर्णय आने के बाद मुस्लिमों ने इसे सहर्ष स्वीकार किया था और अब सुन्नी मुस्लिमों की संस्था ने याचिका दायर न करने का फैसला किया है, इससे देश में एकता और सौहार्द का संदेश जाता है। 

निर्मोही अखाड़ा के महंत दिनेंद्र दास के अनुसार, सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड का यह फैसला निहायत अच्छा है। वह निर्णय आने से पूर्व फैसले को स्वीकार करने का एलान करते रहे और अब उसे स्वीकार कर यह जता दिया कि वह सांप्रदायिक भेद-भाव से ऊपर देश के जिम्मेदार नागरिक हैं। 

विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के प्रांतीय प्रवक्ता शरद शर्मा ने कहा, 'यह दौर विवाद से ऊपर उठकर सृजन-संवाद का है और मुस्लिम पक्ष ने इस सच्चाई को समझा, इसके लिए हम बतौर भारतवासी उनके प्रति अत्यंत कृतज्ञ हैं।'

अयोध्या में राम जन्मभूमि को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड कोई चुनौती नहीं देगा। लखनऊ में बोर्ड की बैठक में इस पर मुहर लगा दी गई है। इसके साथ ही कार्यालय में हुई बैठक में पांच एकड़ जमीन को लेकर अभी कोई निर्णय नहीं हो सका है। 

बैठक में शामिल सात में से छह सदस्यों की राय पर निर्णय हुआ कि बोर्ड सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर पुनर्विचार याचिका दायर नहीं करेगा। याचिका के पक्ष में सिर्फ रज्जाक रहे।