समाजवादी पार्टी (सपा) के नेता मुलायम सिंह यादव ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि मोदी सरकार के कार्यकाल में किसानों, नौजवानों एवं व्यापारियों की हालत खराब है और सरकार कुछ नहीं कर रही है। लोकसभा में सरकार के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा में भाग लेते हुए मुलायम सिंह यादव ने कहा कि इस समय किसान नौजवान व्यापारी सब परेशान हैं।

व्यापारी बहा रहे हैं आंसू

उन्होंने कहा कि सरकार को चलाने के तौर तरीकों से भारतीय जनता पार्टी के सांसद भी परेशान हैं। उनका कहना है कि इस सरकार के कारण वे सब बरबाद हो गये हैं। उन्होंने कहा कि सरकार ने वादे नहीं निभाये हैं। यह अजीब सरकार है जो किसी बात के लिए मना करती नहीं और काम भी नहीं करती है। उन्होंने कहा कि व्यापारी आंसू बहा रहे हैं। जब व्यापारी बरबाद हैं तो किसान का माल कौन खरीदेगा।

उन्होंने कहा कि अमेरिका ने किसानों को सबसे पहले मदद दी तभी वह इतना उन्नत देश बन पाया है। सरकार को किसान को मदद, व्यापारी को राहत और नौजवान को रोजगार देने के बारे में सोचना चाहिए। शिक्षा एवं स्वास्थ्य को प्राथमिकता देनी चाहिए। उन्होंने कहा कि देश में तमाम कोशिशों के बावजूद भाईचारा कायम है। जनता ने धर्म जाति के आधार पर भेदभाव नहीं किया। उन्होंने सरकार को सुझाव दिया कि वह किसानों, व्यापारियों एवं नौजवानों की समस्या पर विचार के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाए।

घोषणापत्र में किये गये किसी वादे को नहीं किया गया पूरा

इसके बाद मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के मोहम्मद सलीम ने कहा कि सरकार के चुनावी घोषणापत्र में किये गये किसी वादे को पूरा नहीं किया गया। कालाधन निकालने को प्राथमिकता बताया गया था लेकिन अब कह रहे हैं कि स्विस बैंक में जमा धन काला नहीं है। घरों में रखा धन काला है। इसे निकालने के लिए नोटबंदी लायी गयी।

उन्होंने कहा कि भाजपा सांसदों को खिलाड़ी बनाने की जगह सबको गोलकीपर बना दिया गया और खिलाड़ी केवल एक है। सलीम ने कहा कि स्वदेशी के नाम पर आयी सरकार ने रक्षा, रेल आदि क्षेत्रों में शत प्रतिशत विदेशी निवेश को अनुमति दे दी। गरीब, किसान, आदिवासी, महिलाएं परेशान हैं।

देश की 73 प्रतिशत दौलत एक प्रतिशत लोगों में सिमट रही है और 99 प्रतिशत को एक दूसरे का दुश्मन बता कर आपस में लड़वाया जा रहा है। ये कैसा राष्ट्रवाद है। त्रिपुरा से लेकर जम्मू-कश्मीर तक देश विरोधी तत्वों को बढ़वा दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि देश बहुत बड़े जुमलेबाज जादूगर के हाथ में पड़ गया है। भाजपा अध्यक्ष के सहकारी बैंक में सबसे बड़ा घोटाला हुआ है जिसकी जांच कराने की जरूरत नहीं है।