BREAKING NEWS

मिस्र के साथ भारत के नए सिरे से संबंध - 2 विकासशील देशों का एक परिप्रेक्ष्य◾कुश्ती विवाद में सूत्रों का दावा : खेल मंत्रालय निगरानी समिति में शामिल कर सकता है और सदस्य◾उपराष्ट्रपति धनखड़ ने मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सीसी से की मुलाकात◾दिल्ली में अगले कुछ दिन भी छाये रहेंगे बादल, 29 जनवरी को हल्की बारिश की संभावना◾गणतंत्र दिवस समारोह : कर्तव्य पथ पर भारत की सैन्य ताकत, सांस्कृतिक धरोहर, नारी शक्ति का प्रदर्शन◾विश्व के नेताओं ने गणतंत्र दिवस की बधाई दी◾अभिनेता अन्नू कपूर गंगा राम अस्पताल में भर्ती, हालत स्थिर◾जम्मू-कश्मीर में जी20 की बैठक ‘मानवता के दुश्मनों के लिए संदेश’ : उपराज्यपाल मनोज सिन्हा◾सुप्रीम कोर्ट पहुंची शैली ओबेरॉय, MCD मेयर चुनाव को लेकर दाखिल की याचिका◾मिस्र के राष्ट्रपति अब्दुल फतेह अल सीसी ने गणतंत्र दिवस पर देखी भारत की ताकत◾Republic Day 2023: पुतिन ने देश को गणतंत्र दिवस की दी बधाई, कहा- भारत का योगदान महत्वपूर्ण◾JNU में BBC डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग पर विदेश राज्य मंत्री का बयान, कहा- 'किसी को भी भारत की संप्रभुता को रौंदने की अनुमति नहीं'◾74th Republic Day: पाक रेंजर्स ने BSF को खिलाई मिठाइयां, अटारी वाघा बॉर्डर पर गणतंत्र दिवस का जश्न◾ BBC की डॉक्यूमेंट्री बैन के फैसले पर अमेरिका ने तोड़ी चुप्पी, कहा- 'हम मीडिया की स्वतंत्रता का समर्थन करते हैं'◾Republic Day : कर्तव्य पथ पर भारत ने दिखाई अपनी ताकत, जमीन पर टैंकों की दहाड़, 'आसमान में गरजा राफेल'◾जेपी नड्डा के बेटे की जयपुर में हुई शादी, 28 जनवरी को बिलासपुर में होगा रिसेप्शन◾बिहटा में भीषण सड़क हादसा, स्कॉर्पियो ने 6 को रौंदा, दो की हुई मौत◾गणतंत्र दिवस परेड में दिखा स्वदेशी हथियारों की झलक, भारतीय तोप से 21 तोपों की सलामी◾बसंत पंचमी 2023: इन तीन छात्रों पर बरसेगी मां सरस्वती की कृपा,मिलेगी सफलता,बना खास योग करें ये उपाय◾ रामचरित मानस विवाद पर आग बगूला हुए रामभद्राचार्य कहा - स्वामी प्रसाद सठिया गए ◾

यूपी चुनाव से पहले भाजपा ने चला सियासी दांव, योगी ने दलित कार्यकर्ता के घर पर खाई 'खिचड़ी'

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव है और सियासी पारा बहुत हाई हुआ पड़ा है। प्रदेश की सत्ता में बैठी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अपने सियासी दांव चल रही है। इसी कड़ी में मकर संक्रांति पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर में दलित परिवार के साथ भोजन किया।  

विधायकों का अदला-बदली जारी है 

40 साल पुराने भाजपा कार्यकर्ता अमृत लाल के घर योगी आदित्यनाथ की जमीन पर बैठकर खाते हुए तस्वीर ऐसे समय पर आई है जब पार्टी से कई पिछड़े नेताओं ने नाता तोड़ लिया है। पिछले 3-4 दिनों में तीन मंत्री समेत एक दर्जन से अधिक विधायकों ने भाजपा का साथ छोड़ दिया है। 

वे यहां सामाजिक मुद्दों पर काम करते रहे हैं- योगी  

योगी आदित्यनाथ ने सहभोज के बाद पत्रकारों से बातचीत में कहा, ''मैं मकर संक्रांति के मौके पर अपने इस अनुसूचित जाति के कार्यकर्ता अमृत लाल भारती और उनके परिजनों को धन्यवाद देता हूं, जिन्होंने मुझे खिचड़ी सहभोज पर अपने घर में आमंत्रित किया। वे यहां सामाजिक मुद्दों पर काम करते रहे हैं।  

राष्ट्रवाद के अभियान को आगे बढ़ाने के लिए समता भोज किया 

आज उन्होंने खिचड़ी सहभोज के कार्यक्रम के माध्यम से सामाजिक समता का और पीएम मोदी के 'सबका साथ-सबका विकास' मंत्र को अंगीकार करते हुए विकास, सुशान और राष्ट्रवाद के अभियान को आगे बढ़ाने के लिए समता भोज किया। बाबा साहबे के उस संदेश को जन-जन तक पहुंचाने के अभियान के तहत यह कार्यक्रम हुआ है।'' 

Budget Session 2022 : 31 जनवरी से शुरू होगा बजट सत्र, 1 फरवरी को पेश किया जाएगा केंद्रीय बजट

चुनाव से ठीक पहले इस आयोजन के सियासी मायने हैं 

हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब योगी आदित्यनाथ ने किसी दलित के घर खाना खाया हो। लेकिन चुनाव से ठीक पहले इस आयोजन के सियासी मायने हैं। बीजेपी प्रतीकों की राजनीतिक का महत्व जानती है और इनके जरिए अपने पक्ष में माहौल बनाने में माहिर मानी जाती है। कहा जा रहा है कि बीजेपी ने चुनाव से ठीक पहले दलित वोटर्स को लुभाने के लिए इस कार्यक्रम का आयोजन किया है। बीजेपी के इस दांव को समाजवादी पार्टी की ओर से ओबीसी वोट में की गई सेंधमारी की काट के तौर पर भी देखा जा रहा है। 

खिचड़ी खाने की परंपरा करीब 40 वर्ष पुरानी है 

मुख्यमंत्री ने अमृत लाल के घर खिचड़ी खाकर सामाजिक समरसता का संदेश दिया। बता दें दलित के घर खिचड़ी खाने की परंपरा करीब 40 वर्ष पुरानी है। मुख्यमंत्री पूर्व में भी इस परंपरा का निर्वहन करते रहे हैं। उनसे पूर्व में ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ इस परंपरा का निर्वहन करते रहे हैं। मुख्यमंत्री के आगमन को लेकर अमृत लाल का परिवार सुबह से उत्साहित था। उनके घर में सुबह से तैयारी की जा रही थी। अमृत लाल भाजपा के पुराने कार्यकर्ता हैं। उनका परिवार करीब 30 वर्षों से गोरखनाथ मंदिर से जुड़ा हुआ है।