BREAKING NEWS

रामपुर में पहले नहीं होते थे चुनाव, थानों और बूथों पर रहता था सपा के गुंडों का कब्जा : बृजेश पाठक ◾J&K : आजाद बोले- धार्मिक राजनीति ने देश को पहुंचाया गहरा नुकसान, वोट डालने से पहले जांचे 'ट्रैक रिकॉर्ड'◾पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा- विनिर्माण की दुनिया में लगातार आगे बढ़ रहा है भारत◾Assam: सीएम शर्मा ने कहा- डिब्रूगढ़ विवि ने रैगिंग की घटना छिपाने की कोशिश की या नहीं, जांच पुलिस करेगी◾'मोदी सरकार' पर निशाना साधते हुए राहुल बोले- नोटबंदी, GST ने लोगों और छोटे व्यापारियों की कमर तोड़ी◾Gujarat: गुजरात में मिली जहरीली शराब पर भड़के राहुल गांधी- राज्य में फैल हुआ 'मोदी मॉडल'◾ लड़की के साथ दरिंदगी, तीन लोगों ने मिलकर किया दुष्कर्म, पुलिस ने आरोपियों को दबोचा, जानें पूरा मामला ◾Goa: सीएम प्रमोद सांवत ने कहा- ‘द कश्मीर फाइल्स’ पर इफ्फी के जूरी प्रमुख का बयान कश्मीरी हिंदुओं का अपमान◾Air India: एयर इंडिया-विस्तारा के विलय को मिली मंजूरी...सिंगापुर एयरलाइंस की होगी इतनी हिस्सेदारी◾सोशल मीडिया ने देश को आगे बढ़ाया... लेकिन फेक न्यूज का भी तेजी से हुआ चलन, बोले केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ◾BWF Rankings: बीडब्ल्यूएफ रैंकिंग में छठे स्थान पर पहुंचे लक्ष्य सेन, टॉप-20 में गायत्री-त्रिशा ◾MCD पर केजरीवाल का चुनावी एजेंडा, कहा- 'आप पार्टी' को वोट दें.....राजधानी को बनाएंगे स्वच्छ और सुंदर ◾Digital Rupee: RBI का बड़ा ऐलान- 1 दिसंबर को लॉन्च होगा डिजिटल रूपया ◾भाजपा के गुजरात मॉडल पर योगी मॉडल की छाप, छात्राओं को देंगे तमाम तोहफे◾Corruption case: देशमुख की जमानत याचिका पर अदालत ने सुनवाई को 2 दिसंबर तक किया स्थगित ◾10वीं छात्रा के साथ दुष्कर्म, पांच सहपाठियों ने लड़की को दबोचा, किया गैंगरेप, वीडियो बनाकर कर रहे थे blackmail ◾ Akhilesh Yadav: भाजपा के विवादित बयान पर 'सपा' का पलटवार , अखिलेश का ट्वीट- पिक्चर अभी बाकी है ◾Gujarat Assembly Election: सोशल मीडिया पर ‘आप’ सबसे ज्यादा सक्रिय, BJP और कांग्रेस पीछे◾PM मोदी पर मल्लिकार्जुन खरगे ने कसा तंज कहा, आपके रावण के जैसे 100 सिर हैं क्या?◾हैरतअंगेज करने वाला वीडियो, महिला के ऊपर से गुजरी ट्रेन...फिर भी फोन पर करती रही बात, यूजर्स की फट गई आंखे◾

यूपी चुनाव: लखीमपुर खीरी की सभी 8 सीटों पर भाजपा को बढ़त, किसानों के विरोध-प्रदर्शन का नहीं पड़ा कोई प्रभाव?

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में अब भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) शानदार जीत लगभग सुनिश्चित लग रही है। गुरुवार को जो रुझान सामने आ रहे हैं, उनसे पता चला है कि राज्य के लखीमपुर खीरी जिले की सभी आठ विधानसभा सीटों पर भाजपा आगे चल रही है। लखीमपुर खीरी की सभी विधानसभा सीटों पर भाजपा का जीत की ओर बढ़ना काफी महत्व रखता है, क्योंकि यह जिला हाल ही में राज्य में किसानों के विरोध-प्रदर्शन का केंद्र रहा था। ऐसे में कहा जा रहा था कि इस क्षेत्र से भाजपा का जीतना काफी मुश्किल है।  

2021 में, 4 अक्टूबर को हुआ था कांड 

हालांकि गुरुवार की शाम छह बजे तक के रुझानों से यह स्पष्ट हो गया है कि भाजपा यहां मजबूत स्थिति में है। 2021 में, 4 अक्टूबर को किसानों के विरोध के चरम के दौरान, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय टेनी के बेटे ने कथित तौर पर अपनी कार के नीचे आधा दर्जन लोगों को कुचल दिया था, जिसमें चार किसानों की मौत हो गई थी। किसान केंद्र द्वारा लाए गए उन तीन विवादास्पद कृषि कानूनों का विरोध कर रहे थे, जिन्हें अब निरस्त कर दिया गया है।  

भाजपा जिले की सभी आठ विधानसभा सीटों पर जीत हासिल करने के लिए तैयार है 

यह व्यापक रूप से माना जाता था कि किसानों के गुस्से का खामियाजा भाजपा को जिले में और कुछ हद तक पश्चिमी उत्तर प्रदेश में भुगतना पड़ेगा। हालांकि, दिन भर की मतगणना के साथ, यह स्पष्ट है कि भाजपा जिले की सभी आठ विधानसभा सीटों पर जीत हासिल करने के लिए तैयार है। संयोग से, सभी आठ सीटों पर, भाजपा उम्मीदवार समाजवादी पार्टी के दूसरे उम्मीदवारों से आगे चल रहे हैं।  

लखीमपुर में भाजपा के योगेश वर्मा सपा के उत्कर्ष वर्मा मधुर से आगे चल रहे हैं 

वहीं, पलिया में भाजपा के हरविंदर कुमार साहनी उर्फ रोमी साहनी समाजवादी पार्टी (सपा) के प्रीतिंदर सिंह कक्कू से आगे हैं। निघासन में बीजेपी के शशांक वर्मा सपा के आर. एस. कुशवाहा, गोला गोकर्णनाथ में भाजपा के अरविंद गिरि सपा के विनय तिवारी से आगे चल रहे हैं और श्री नगर में भाजपा की मंजू त्यागी सपा के राम शरण को मात देने के लिए तैयार हैं। इसी तरह धौरहरा में बीजेपी के विनोद शंकर सपा के वरुण सिंह को शिकस्त देने के लिए तैयार हैं।  

लखीमपुर में भाजपा के योगेश वर्मा सपा के उत्कर्ष वर्मा मधुर से आगे चल रहे हैं, कस्ता में भाजपा के सौरभ सिंह सपा के सुनील कुमार सिंह से आगे चल रहे हैं जबकि मोहम्मदी में भाजपा के लोकेंद्र प्रताप सिंह सपा के दाऊद अहमद से आगे चल रहे हैं। तीन विवादास्पद कृषि कानूनों के खिलाफ बड़े पैमाने पर देशव्यापी आंदोलन ने नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार को लखीमपुर खीरी की घटना के लगभग दो महीने बाद नवंबर 2021 में उन्हें निरस्त करने के लिए प्रेरित किया था।

आपराधिक मामले दर्ज करना और आरोपियों को न्याय दिलाना किसान संगठनों की प्रमुख मांगों में से एक था।  

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में दिखा कृषि कानूनों के लिए जबरदस्त विरोध 

केंद्र द्वारा तीन केंद्रीय कृषि कानूनों के लिए एक अध्यादेश लाए जाने के तुरंत बाद, संयुक्त किसान मोर्चा के संघ के तहत कई किसान संगठनों ने एक विरोध शुरू किया था जो पूरे भारत में खासतौर पर राष्ट्रीय राजधानी से बाहर फैल गया था, लेकिन इसका दायरा ज्यादातर पश्चिमी उत्तर प्रदेश, पंजाब और हरियाणा तक ही सीमित था। 4 अक्टूबर, 2021 को लखीमपुर खीरी में प्रदर्शनकारी किसानों के प्रदर्शन के दौरान कार से कुचले जाने से मारे गए लोगों में चार किसान भी शामिल थे।