BREAKING NEWS

महाराष्ट्र: आदित्य ठाकरे ने 'ओमिक्रॉन' से बचने के लिए तीन सुझाव सरकार को बताए, केंद्र को भेजा पत्र◾गांधी का भारत अब गोडसे के भारत में बदल रहा है..महबूबा ने केंद्र सरकार को फिर किया कटघरे में खड़ा, पूर्व PM के लिए कही ये बात◾UP चुनाव: सपा-रालोद आई एक साथ, क्या राज्य में बनेगी डबल इंजन की सरकार, रैली में उमड़ा जनसैलाब ◾बेंगलुरु का डॉक्टर रिकवरी के बाद फिर हुआ कोरोना पॉजिटिव, देश में ओमीक्रॉन के 23 मामलों की हुई पुष्टि ◾समाजवादी पार्टी पर PM मोदी का हमला, बोले-'लाल टोपी' वालों को सिर्फ 'लाल बत्ती' से मतलब◾पीेएम मोदी ने पूर्वांचल को दी 10 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं की सौगात, सपा के लिए कही ये बात◾सदन में पैदा हो रही अड़चनों के लिए सरकार जिम्मेदार : मल्लिकार्जुन खड़गे◾UP चुनाव में BJP कस रही धर्म का फंदा? आनन्द शुक्ल बोले- 'सफेद भवन' को हिंदुओं के हवाले कर दें मुसलमान... ◾नगालैंड गोलीबारी केस में सेना ने नगारिकों की नहीं की पहचान, शवों को ‘छिपाने’ का किया प्रयास ◾विवाद के बाद गेरुआ से फिर सफेद हो रही वाराणसी की मस्जिद, मुस्लिम समुदाय ने लगाए थे तानाशाही के आरोप ◾लोकसभा में बोले राहुल-मेरे पास मृतक किसानों की लिस्ट......, मुआवजा दे सरकार◾प्रधानमंत्री मोदी ने सांसदों को दी कड़ी नसीहत-बच्चों को बार-बार टोका जाए तो उन्हें भी अच्छा नहीं लगता ...◾Winter Session: निलंबन वापसी के मुद्दे पर राज्यसभा में जारी गतिरोध, शून्यकाल और प्रश्नकाल हुआ बाधित ◾12 निलंबित सदस्यों को लेकर विपक्ष का समर्थन,संसद परिसर में दिया धरना, राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित ◾JNU में फिर सुलगी नए विवाद की चिंगारी, छात्रसंघ ने की बाबरी मस्जिद दोबारा बनाने की मांग, निकाला मार्च ◾भारत में होने जा रहा कोरोना की तीसरी लहर का आगाज? ओमीक्रॉन के खतरे के बीच मुंबई लौटे 109 यात्री लापता ◾देश में आखिर कब थमेगा कोरोना महामारी का कहर, पिछले 24 घंटे में संक्रमण के इतने नए मामलों की हुई पुष्टि ◾लोकसभा में न्यायाधीशों के वेतन में संशोधन की मांग वाले विधेयक पर होगी चर्चा, कई दस्तावेज भी होंगे पेश ◾PM मोदी के वाराणसी दौरे से पहले 'गेरुआ' रंग में रंगी गई मस्जिद, मुस्लिम समुदाय में नाराजगी◾ओमीक्रॉन के बढ़ते खतरे के बीच दिल्ली फिर हो जाएगी लॉकडाउन की शिकार? जानें क्या है सरकार की तैयारी ◾

BJP विधायक सुरेंद्र सिंह का आरोप, ट्रैक्टर परेड के दौरान हिंसा के लिए राहुल-सोनिया जिम्मेदार

राजधानी दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के लिए बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को जिम्मेदार ठहराया है। इसके साथ ही विधायक ने मांग की है कि हिंसा में शामिल लोगों के खिलाफ राजद्रोह का मुकदमा दर्ज किया जाए। बीजेपी विधायक के आरोप पर उत्तर प्रदेश कांग्रेस के मीडिया संयोजक ललन कुमार ने पलटवार किया है। 

अपने विवादित बयानों को लेकर अक्सर चर्चा में रहने वाले बलिया के बैरिया क्षेत्र से विधायक सिंह ने मंगलवार रात अपने आवास पर संवाददाताओं से कहा, “दिल्ली में किसानों के ट्रैक्टर मार्च के दौरान हुए उपद्रव की घटना अत्यंत निंदनीय है। इस कृत्य में शामिल लोगों के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज कर सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए।” 

पार्टी नेतृत्व से हिंसा में शामिल लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग करते हुए सिंह ने आरोप लगाया, “उपद्रव की घटना के पीछे विदेशी हाथ है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी के इशारे पर यह घटना हुई। घटना के बाद किसी कांग्रेस नेता का दुख न जताना इसे प्रमाणित करता है।” 

इस बीच, कांग्रेस में बीजेपी विधायक के बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। ललन कुमार ने आरोप लगाया, “ट्रैक्टर परेड के दौरान जो कुछ भी हुआ उसके लिए बीजेपी सरकार, गृह मंत्रालय, पुलिस और खुफिया एजेंसियां जिम्मेदार हैं।” कुमार ने कहा, “प्रदर्शन को बदनाम करने के लिए कुछ लोगों ने किसानों के भेष में घुसपैठ की। दीप सिद्धु एक उदाहरण है। सिद्धु बीजेपी सांसद सन्नी देओल का प्रतिनिधि है...बीजेपी को यह बताना चाहिए कि सिद्धु इससे कैसे जुड़ा है और उसने लालकिले पर जो किया उसके लिये उसे क्या सजा मिलेगी।” सनी देओल ने हालांकि सिद्धु से कोई संबंध नहीं होने की बात कही है। 

वहीं, उत्तर प्रदेश के दिव्यांग जन सशक्तिकरण तथा पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री अनिल राजभर ने प्रदर्शनकारी किसानों की तुलना 'दलाल और बिचौलियों' से की है। उन्होंने मंगलवार को एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा “दिल्ली की सड़कों को जाम करने वाले किसान नहीं, बल्कि दलाल एवं बिचौलिये किस्म के लोग हैं। 

गणतंत्र दिवस के दिन दिल्ली में हुई घटना के बाद अब इनका चेहरा बेनकाब हो गया है और जनता उन्हें जान भी गई है।” राजभर ने कहा, “किसानों का काम सड़क पर ट्रैक्टर के साथ प्रदर्शन करना नहीं है। किसान हमेशा खेतों में काम करता है। वे संसद में पारित कानून का विरोध कर रहे हैं।”